आयुष्मान भारत राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना (एनएचपीएस) का फायदा जरूरतमंदों तक पहुंचाने के लिए केंद्र सरकार इस महीने की 14 तारीख को 12 राज्यों के साथ समझौता कर रही है. द टाइम्स आॅफ इंडिया के मुताबिक यह जानकारी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने दी है. अपनी इस महत्वाकांक्षी योजना को लेकर केंद्र सरकार आठ राज्यों के साथ पहले ही समझौता कर चुकी है.

इस बारे में जेपी नड्डा ने कहा है, ‘इस योजना के जरिए केंद्र सरकार का कोई राजनीतिक फायदा लेने का इरादा नहीं है. इसके लागू होने के बाद देश के स्वास्थ्य क्षेत्र में व्यापक बदलाव आएगा. योजना की सफलता के लिए कंप्यूटरीकृत डेटाबेस बनाया जा रहा है. इसका काम अंतिम चरण में है. देश के ग्रामीण इलाकों में इस योजना के 80 फीसदी संभावित लाभार्थियों की पहचान हो जा चुकी है. इनकी सूचनाएं आईटी डेटाबेस में दर्ज़ की जा रही हैं. जून के आखिर तक इसका ट्रायल भी शुरू हो जाएगा.’

देश के 10 करोड़ परिवारों को पांच लाख रुपए का वार्षिक स्वास्थ्य बीमा मुहैया कराने वाली इस योजना को इसी साल मार्च के महीने में मंजूरी दी गई थी. बताया जाता है कि अगले दो वर्षों के दौरान इस योजना पर 10,500 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे. योजना की शुरुआत इस साल स्वतंत्रता दिवस या फिर गांधी जयंती के मौके पर की जा सकती है.