अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सिंगापुर में उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग-उन के साथ मुलाकात को इतिहास का अहम क्षण बताया है. मंगलवार को बैठक के बाद उन्होंने कहा, ‘हम नए इतिहास और नया अध्याय लिखने के लिए तैयार हैं. अतीत, भविष्य का निर्धारण नहीं कर सकता है.’ राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आगे कहा, ‘किम जोंग-उन के सामने अपने देश के लिए एक बेहतर भविष्य चुनने का मौका है. युद्ध तो कोई भी कर सकता है, लेकिन शांति सिर्फ दिलेर ही कायम कर सकता है.’

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार उत्तर कोरिया के साथ एक व्यापक दस्तावेज पर हस्ताक्षर किए जाने की जानकारी देते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, ‘मैं सोचता हूं कि वे (किम जोंग-उन) उत्तर कोरिया पहुंचने के बाद परमाणु हथियारों और मिसाइलों को खत्म करने का काम जल्द शुरू कर देंगे.’ राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के मुताबिक उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग-उन चीजें आगे बढ़ाने के मामले में पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपतियों में से किसी पर कभी भरोसा ही नहीं कर पाए. उन्होंने आगे कहा, ‘वे (किम जोंग उन) इस मुलाकात के लिए मुझसे भी ज्यादा इच्छुक थे.’

डोनाल्ड ट्रंप ने सिंगापुर समिट को दोनों देशों के हित में बताया. उन्होंने आगे कहा कि परमाणु मिसाइलें खत्म होने के बाद उत्तर कोरिया पर लगे आर्थिक प्रतिबंधों को हटा लिया जाएगा. अमेरिकी राष्ट्रपति ने यह भी घोषणा की कि इस बैठक के बाद भविष्य में कोरियाई प्रायद्वीप पर कोई सैन्य अभ्यास नहीं किया जाएगा. दोनों नेताओं की इस बैठक का भारत सहित अन्य देशों ने स्वागत किया है. भारत के विदेश मंत्रालय ने इसे शांति और स्थिरता के लिए सकारात्मक कदम बताया है.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने हाल में संपन्न जी-7 शिखर सम्मेलन को भी अच्छे नतीजों वाला बताया. इस बैठक की एक तस्वीर पर सफाई देते हुए उन्होंने कहा, ‘हम लोग केवल बातें कर रहे थे और दस्तावेजों का इंतजार कर रहे थे.’ मीडिया में आई तस्वीर में डोनाल्ड ट्रंप कुर्सी पर बैठे और अन्य राष्ट्राध्यक्ष उन्हें घेर कर खड़े दिखाई दे रहे थे. जी-7 शिखर सम्मेलन 8-9 जून को कनाडा के क्यूबेक में आयोजित हुआ था.