समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ‘बंगला विवाद’ को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर पलटवार किया है. द हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक बुधवार को एक प्रेस वार्ता के दौरान अखिलेश यादव ने कहा, ‘लखनऊ स्थित सरकारी बंगले को खाली करते हुए इसमें कोई तोड़-फोड़ नहीं कराई. यहां से सिर्फ उन चीजों को निकलवाया था जो मैंने खुद लगवाई थीं.’

बंगले को नुकसान पहुंचाए जाने संबंधी मीडिया में आई खबरों और तस्वीरों को अखिलेश यादव ने साजिश का हिस्सा बताया है. उनका कहना है कि बंगले में कई ऐसी चीजों को नुकसान पहुंचाए जाने की बात की जा रही है जो वहां थीं ही नहीं. इनमें से एक स्वीमिंग पूल भी है. सपा अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि प्रदेश की सत्ता पर काबिज भाजपा हाल के उपचुनावों में मिली हार से हताश है और बदले की भावना से काम कर रही है.

अखिलेश यादव के इस बयान से एक दिन पहले मंगलवार को उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर तोड़-फोड़ के मामले में उचित कार्रवाई करने को कहा था. बताया जाता है कि राज्यपाल ने इस पत्र में लिखा था, ‘सरकारी निवास की देखभाल आम जनता द्वारा दिए जाने वाले टैक्स के पैसों से होती है इसलिए इस मामले में कानून के अनुसार माकूल कार्रवाई की जानी चाहिए.’