‘आरएसएस हमेशा से खुले विचारों वाला संगठन रहा है.’  

— राम माधव, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव

भाजपा नेता राम माधव का यह बयान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के कार्यक्रम में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को बुलाने के फैसले को लेकर आया. उन्होंने कहा कि वैचारिक अंतर के बावजूद संघ सभी प्रभावी व्यक्तियों से बातचीत के लिए खुला है, इसलिए पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को आरएसएस के कार्यक्रम में बुलाया गया. राम माधव ने आगे कहा, ‘बहुत सी चीजें हैं, जिस पर असहमतियां हो सकती हैं, लेकिन यही आरएसएस की सुंदरता है.’ उनके मुताबिक आरएसएस कार्यक्रम में प्रणब मुखर्जी और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की बातों में कोई खास अंतर नहीं था. भाजपा नेता का कहना था कि इस मामले में कांग्रेस और तथाकथित उदारवादियों की प्रतिक्रिया सबसे ज्यादा दुर्भाग्यपूर्ण रही.

‘अखिलेश जी, घर की दीवारों के भीतर क्या छिपा था, जिसके लिए उसे गिरा दिया.’

— सिद्धार्थ नाथ सिंह, उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री

उत्तर प्रदेश के मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह का यह बयान पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर सरकारी आवास को छोड़ने से पहले उसमें तोड़फोड़ करने का आरोप लगाते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘उन्होंने (अखिलेश यादव) कहा कि बंगले में अपने पैसे से सामान लगाया था. अब आयकर विभाग को देखना चाहिए कि उनका हिसाब-किताब सही है या नहीं?’ सिद्धार्थ नाथ सिंह ने आगे कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री को खुद ही अपने बंगले पर खर्च किए गए पैसों और उसके स्रोतों की जानकारी दे देनी चाहिए. सपा सरकार की परियोजनाओं का श्रेय लेने के आरोपों के जवाब में भाजपा नेता ने कहा कि योजनाओं का केवल फीता काटा था, उस पर एक भी पैसा खर्च नहीं किया था.


‘आंध्र प्रदेश में जनता के साथ गठबंधन ही कांग्रेस का नारा होगा.’

— ओमान चांडी, कांग्रेस महासचिव

कांग्रेस नेता ओमान चांडी का यह बयान आंध्र प्रदेश में किसी भी दल के साथ गठबंधन की संभावना को खारिज करते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘हमारा पूरा ध्यान पार्टी को बूथ लेवल से मजबूत करने पर रहेगा.’ ओमान चांडी ने आगे कहा, ‘हम जानते हैं कि यह चुनौतीपूर्ण काम है, लेकिन हम घर-घर जाकर प्रचार करेंगे और पार्टी के गौरव को वापस लाएंगे.’ आंध्र प्रदेश के विशेष राज्य के दर्जे पर उन्होंने भाजपा पर वादाखिलाफी का आरोप लगाया. तेलुगु देशम पार्टी पर निशाना साधते हुए कांग्रेस नेता का कहना था कि चार साल तक भाजपा के साथ रहे और अब लोगों को भ्रमित करने के लिए उससे अलग हो गए.


‘केंद्र और राज्य दोनों सरकारों के एससी-एसटी कर्मचारियों को प्रमोशन में आरक्षण का लाभ मिलेगा.’

— राम विलास पासवान, केंद्रीय मंत्री

केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान का यह बयान अनुसूचित जाति (एससी) और अनुसूचित जनजाति (एसटी) वर्ग के सरकारी कर्मचारियों को प्रमोशन में आरक्षण देने पर सुप्रीम कोर्ट के हालिया फैसले को लेकर आया. उन्होंने कहा, ‘इसको लेकर भ्रम था कि सुप्रीम कोर्ट का आदेश केवल केंद्र में लागू होगा या राज्यों में भी.’ राम विलास पासवान ने आगे कहा कि इस पर बुधवार को मंत्रियों के समूह ने चर्चा की, जिसमें गृह मंत्री राजनाथ सिंह, कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद और सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत सहित अन्य सदस्य शामिल थे. केंद्रीय मंत्री के मुताबिक इस बारे में कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग बहुत जल्द निर्देश जारी करेगा.


‘अगर परमाणु समझौता खत्म हुआ तो ईरान यूरेनियम संवर्धन का काम दोबारा शुरू कर देगा.’

— बहरोज कमालवंदी, ईरान के परमाणु ऊर्जा संगठन (एईओआई) के प्रवक्ता

एईओआई के प्रवक्ता बहरोज कमालवंदी का यह बयान 2015 के अंतरराष्ट्रीय परमाणु समझौते से अमेरिका के अलग होने के बाद उसके भविष्य को लेकर आया. उन्होंने कहा, ‘ईरान के सर्वोच्च नेता (अयातुल्लाह अली खामनेई) ने परमाणु समझौते के मापदंडों के भीतर परमाणु कार्यक्रम को आगे बढ़ाने का आदेश दिया है.’ बहरोज कमालवंदी ने यह भी कहा कि जब अयातुल्लाह अली खामनेई आदेश देंगे, तब ईरान परमाणु समझौते के बाहर जाकर काम करने के अपने कार्यक्रम का ऐलान कर देगा. ईरान के साथ 2015 के परमाणु समझौते में सुरक्षा परिषद के पांचों सदस्य देश शामिल थे, लेकिन अमेरिका ने खुद को इससे अलग कर लिया है.