वरिष्ठ पत्रकार और राइजिंग कश्मीर अखबार के संपादक शुजात बुखारी की गोली मार हत्या कर दी गई है. द टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार अज्ञात हमलावरों ने गुरुवार शाम श्रीनगर की प्रेस कॉलोनी में उन्हें निशाना बनाकर हमला किया. इस हमले में उनके एक सुरक्षाकर्मी की भी मौत हो गई, जबकि दूसरा घायल हो गया. शुजात बुखारी पर साल 2000 में भी हमला हुआ था, जिसके बाद से उन्हें सुरक्षा मिली हुई थी.

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने संपादक शुजात बुखारी ही हत्या को कायराना कृत्य बताया है. ट्विटर पर उन्होंने लिखा, ‘यह कश्मीर के समझदार लोगों को चुप कराने की कोशिश है. वे एक साहसी और निडर पत्रकार थे. उनकी हत्या चौंकाने वाली और बेहद तकलीफदेह है.’ केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि यह बेहद शर्मनाक घटना है, केंद्र और राज्य सरकार प्रेस की आजादी सुरक्षित रखने के लिए प्रतिबद्ध है. वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुजात बुखारी की हत्या पर गहरा शोक जताया है. ट्विटर पर उन्होंने लिखा, ‘वे साहसी व्यक्ति थे, उन्होंने जम्मू-कश्मीर में शांति और न्याय के लिए निडरता से संघर्ष किया.’

जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने भी शुजात बुखारी की हत्या पर दुख जताया है. उन्होंने कहा, ‘आतंक की बला ने ईद की पूर्व संध्या पर अपना सिर उठाया है. मैं इस घटना की निंदा करती हूं और उनके परिवार के प्रति संवेदना प्रकट करती हूं.’ मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने शुजात बुखारी के घर जाकर पीड़ित परिजनों से मुलाकात की है.