उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग-उन और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने आपसी ‘कूटनीतिक और सामरिक’ संबंधों में सहयोग को और बढ़ाने पर रजामंदी दिखाई है. दोनों देशों के नेताओं ने यह फैसला बुधवार को हुई एक बैठक के दौरान किया. द टाइम्स आॅफ इंडिया के मुताबिक इस बैठक में किम जोंग-उन ने शी जिनपिंग को कोरियाई प्रायद्वीप के ताजा हालात और बीते हफ्ते सिंगापुर में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ हुई बैठक के बारे में भी जानकारी दी. उत्तर कोरियाई नेता दो दिनों की यात्रा पर मंगलवार को चीन पहुंचे थे.

इस यात्रा के दौरान बुधवार को किम जोंग-उन ने चीनी अकादमी के एक कृषि संस्थान का भी दौरा किया जहां उन्हें सब्जियां उगाने की उन्नत तकनीक के बारे में जानकारी दी गई. इसके बाद वे बीजिंग के ट्रैफिक नियंत्रण केंद्र भी पहुंचे. दो जगहों के इन दौरों पर चीन के एक अखबार ने लिखा कि किम जोंग के यह दौरे इस बात का इशारा हैं कि अब उनकी प्राथमिकताएं बदल रही हैं.

बुधवार को चीन से स्वदेश रवाना होने से पहले किम जोंग-उन ने कहा कि अब उनके लिए देश की अर्थव्यवस्था प्राथमिकता होगी.इससे पहले अपनी सिंगापुर यात्रा के दौरान उन्होंने सिंगापुर को स्वच्छ, खूबसूरत और उन्नत देश बताया था. साथ ही, उन्होंने यह भी कहा था कि इस समृद्ध देश से उन्हें काफी कुछ सीखने को मिला है.