तिब्बत और नेपाल की राजधानी काठमांडू के बीच अगले पांच सालों में रेल सेवा शुरू हो जाएगी. नेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली इस समय चीन की यात्रा पर हैं और इसी दौरान गुरुवार को दोनों देशों के बीच यह समझौता हुआ है. समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने चीनी मीडिया के हवाले से खबर दी है कि दोनों देशों के बीच तकनीक, परिवहन, बुनियादी ढांचे और राजनीतिक सहयोग के दस मसौदों पर दस्तखत हुए हैं.

चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक नेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली ने बीजिंग में कहा है, ‘सीमाओं के आरपार के इलाकों को जोड़ना नेपाल की प्राथमिकता थी.’ अखबार के मुताबिक चीन ने नेपाल के हिमालयी क्षेत्र में उड्डयन और हाईवे प्रोजेक्ट में भी रुचि दिखाई है. माना जा रहा है कि तिब्बत से काठमांडू को जोड़ने वाले रेल लाइन प्रोजेक्ट की विस्तृत रिपोर्ट दो साल में आ जाएगी.

इस रेल लाइन प्रोजेक्ट का खर्च चीन वहन करेगा और इस रेलमार्ग पर सिर्फ मालवाहक रेलगाड़ियां ही चलाई जाएंगी. अभी हाल ही में भारत ने भी बिहार के रक्सौल से काठमांडू तक रेल नेटवर्क बिछाने की घोषणा की है.