नोटबंदी के बाद अहमदाबाद के एक सहकारी बैंक, जिसके एक निदेशक भाजपा अध्यक्ष अमित शाह हैं, में सबसे ज्यादा रकम जमा होने की खबर आज सोशल मीडिया पर खूब चर्चा में है. यहां इसके हवाले से अमित शाह के साथ-साथ भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जमकर घेरा गया है और ट्विटर पर ShahZyadaKhaGaya टॉपिक ट्रेंडिंग लिस्ट में शामिल हुआ है. इस पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का ट्वीट है, ‘अहमदाबाद जिला सहकारी बैंक के निदेशक अमित शाह को बधाई, आपके बैंक ने पुराने नोट बदलकर नए लेने की दौड़ में पहला स्थान हासिल किया है. पांच दिन में 750 करोड़ रुपये! इस बीच लाखों भारतीयों की जिंदगी नोटबंदी से बर्बाद हो गई, लेकिन इस उपलब्धि के लिए आपको सलाम.’

आज सुबह यह खबर कई न्यूज वेबसाइटों पर प्रकाशित हुई थी, लेकिन बाद में कुछ मीडिया संस्थानों ने इस खबर को अपने पोर्टल से हटा लिया. ट्विटर और फेसबुक पर इस बात का जिक्र करते हुए इन मीडिया संस्थानों की विश्वसनीयता पर सवाल खड़े किए गए हैं. एक यूज़र ने पूछा है, ‘अब देखना है कि कल कितने अखबार इस खबर को प्रकाशित करते हैं...’ पत्रकार मेघनाद का ट्वीट है, ‘अगर वे खबरें प्रकाशित ही रहतीं तो सारा ध्यान अमित शाह पर होता. लेकिन उन्हें प्रकाशित करके तुरंत हटा लिया गया और अब ध्यान अमित शाह और इन न्यूज चैनलों पर बंट गया है... यह सोचने लायक बात है.’

अमित शाह से जुड़ी यह खबर मीडिया में आने और बाद में कुछ जगह से इसके गायब होने के घटनाक्रम पर सोशल मीडिया में आई प्रतिक्रियाएं :

राजेश बोहरा | @raju1204

यह अघोषित आपातकाल है और मीडिया खुशी-खुशी अपनी आवाज दबने दे रहा है.

पन्सटर | @Pun_Starr

पांच दिन में 750 करोड़ रुपये इकट्ठा करने और नोटबंदी को बड़ी सफलता दिलाने के लिए मैं यह गाना अमित शाह जी को डेडिकेट करना चाहता हूं :

कुणाल कामरा | @kunalkamra88

अमित शाह को उन लोगों के खिलाफ मानहानि का केस करना चाहिए जिन्होंने उस बैंक में पैसे जमा किए थे.

गौरव पांधी | @GauravPandhi

सिर्फ पांच दिन में 745 करोड़ रुपये!! हैरानी की बात नहीं कि क्यों भाजपा नोटबंदी को सफलता बता रही थी जबकि सभी जानते हैं कि यह ऐतिहासिक असफलता थी. हालांकि, अब हमें पता चल गया है कि इससे किसको फायदा हुआ और क्यों इसे सफलता बताया जा रहा था...‘जब सैंया भये कोतवाल तो डर काहे का’

रोहिणी सिंह | @rohini_sgh

भाजपा में कौन है जो अमित शाह के खिलाफ काम कर रहा है? जिसने भी मीडिया संस्थानों को वह स्टोरी हटाने के लिए फोन किया, वो जानता था कि जैसे ही स्टोरी हटेगी वह और बड़ी बन जाएगी!