देश में लगे आपातकाल की आज 43वीं वर्षगांठ है और बीते कुछ सालों की तरह सोशल मीडिया पर आज भी इसकी खूब चर्चा है. हमेशा की तरह यहां भाजपा समर्थकों और अन्य लोगों ने इस हवाले से कांग्रेस को जमकर निशाना बनाया है. फिल्मकार अशोक पंडित का ट्वीट है, ‘आज भारत के उस सबसे काले दिन की वर्षगांठ है जब इंदिरा गांधी द्वारा आपातकाल थोपा गया था. मुझे इंतजार है कि राहुल गांधी और कांग्रेस के अन्य वरिष्ठ नेता, क्षद्म उदारवादी और भारत की बर्बादी गैंग के लोग खुलकर इसकी कब आलोचना करते हैं. अगर वे ऐसा नहीं करते तो इस मुद्दे पर उनका असली चेहरा सामने आ जाएगा.’

बीते चार साल से विपक्षी पार्टियां और नागरिक समूह भाजपा की अगुवाई वाली केंद्र सरकार पर तानाशाही रवैए के साथ काम करने के आरोप लगाते रहे हैं. यही वजह है कि आज आपातकाल की वर्षगांठ पर भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को घेरते हुए भी यहां कई टिप्पणियां आई हैं. मोहित पसरीचा की फेसबुक पोस्ट है, ‘कांग्रेस और भाजपा के बीच का फ़र्क़ सिर्फ इतना है कि कांग्रेस ने जिस दिन इमर्जेंसी लगाई थी, उस दिन अख़बारों ने छापकर सबको बता दिया था.’

सोशल मीडिया में आपातकाल की वर्षगांठ पर आई कुछ और प्रतिक्रियाएं :

शिवम विज | @DilliDurAst

आज भाजपा आपातकाल के विरोध में काला दिवस मना रही है, उम्मीद की जाए कि मेनका गांधी और पार्टी के सांसद श्री फीरोज वरुण संजय गांधी विरोध प्रदर्शन का हिस्सा बनेंगे.

फिल्म हिस्टरी पिक्स | @FilmHistoryPic

‘1976 में आपातकाल के दौरान किशोर कुमार के गाने ऑल इंडिया रेडियो और दूरदर्शन पर प्रतिबंधित कर दिए गए थे क्योंकि उन्होंने कांग्रेस की मुंबई में होने वाली एक रैली में गाने से मना कर दिया था.’

कृष्ण प्रताप सिंह | @RaisinaSeries

क्या यह मुमकिन है कि भाजपा नेता इतनी मोटी बुद्धि के हैं कि उन्हें समझ ही नहीं आ रहा कि वे आपातकाल के विरोध में जो कह रहे हैं, वही मोदी सरकार के जबर्दस्ती वाले रवैये की आलोचना भी है? क्या उन्हें सच में इसका कोई भान नहीं है?

कीर्तीश भट्ट | @Kirtishbhat

आपातकाल पर सारे चुप. कांग्रेस वालों के कैलेंडर में 24 के बाद सीधा 26 जून आता है.

मंजुल | @MANJULtoons

कांग्रेस की तरफ से इमर्जेंसी की याद में कोई ट्वीट आया है या नहीं? ‘आज के ही दिन हमने अनुशासन पर्व की शुरुआत की थी...’ टाइप.

अशोक | @Ashudarling73

भाजपा 1975 की इमर्जेंसी को एंबूलेंस की तरह 2019 के लिए इस्तेमाल कर रही है. लेकिन क्या वह इसके बाद भी बच पाएगी? मेरा जवाब है, एक बड़ा सा, ‘न’.