महाराष्ट्र, गुजरात और पश्चिम बंगाल में भारी बारिश की वजह से हुई जान-माल की हानि को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. पश्चिम बंगाल में बिजली गिरने की वजह से पांच और नदी में डूबने से एक की मौत हो गई. वहीं, मुंबई में भी भारी बारिश की वजह से चार लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है. मौसम विभाग ने गुजरात और महाराष्ट्र में अगले दो दिन भारी बारिश की चेतावनी जारी की है.

इसके अलावा बिहार में जदयू की भाजपा को दो टूक भी अखबारों की सुर्खियों में शामिल है. जदयू प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा, ‘अगर भाजपा को गठबंधन के अपने सहयोगियों की जरूरत नहीं है तो वह (लोक सभा की) सभी 40 सीटों पर अकेले चुनाव लड़ सकती है.’ यह खबर भी अखबारों की प्रमुख सुर्खियों में शामिल है. उन्होंने आगे कहा कि कोई भी उन्हें (भाजपा) रोक नहीं रहा है. साथ ही, संजय सिंह ने लोक सभा चुनाव अकेले लड़ने पर पार्टी की जीत होने का भी भरोसा जताया है. उन्होंने कहा, ‘2014 और 2019 में बहुत ज्यादा अंतर है. देश में मुद्दा आधारित राजनीति जगह बना रही है.’

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के कार्यक्रम में हिस्सा लेने के बाद संगठन की सदस्यता के लिए आने वाले आवेदनों में चार गुना बढ़ोतरी : संघ

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने के बाद संगठन की सदस्यता के लिए आने वाले आवेदनों में चार गुना बढ़ोतरी हुई है. द टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक संघ ने यह दावा प्रणब मुखर्जी को लिखे पत्र में किया है. इस पत्र में पूर्व राष्ट्रपति का ‘अपने (कांग्रेस) लोगों द्वारा विरोध’ किए जाने के बाद भी सात जून के कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए आभार जताया गया है. वहीं, पश्चिम बंगाल के एक संघ सदस्य ने कहा है कि एक जून से छह जून के बीच औसतन 378 आवेदन मिलते थे. लेकिन, सात जून को यह आंकड़ा 1779 पहुंच गया. उधर, प्रणब मुखर्जी की बेटी और कांग्रेस नेत्री शर्मिष्ठा मुखर्जी ने इस पत्र पर प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया है. इससे पहले उन्होंने पूर्व राष्ट्रपति द्वारा संघ के कार्यक्रम में जाने को लेकर अपनी असहमति जाहिर की थी.

उत्तर प्रदेश : 2019 के चुनाव में एक तिहाई भाजपा सांसदों को टिकट मिलने को लेकर काले बादल

उत्तर प्रदेश में बसपा-सपा गठबंधन की ओर से संभावित चुनौती को देखते हुए भाजपा ने अपनी कमर कसनी शुरू कर दी है. इसके तहत पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई ने सभी सांसदों के रिपोर्ट कार्ड मंगवा लिए हैं. राजस्थान पत्रिका में छपी खबर के मुताबिक इनमें से एक-तिहाई (24) की रिपोर्ट पार्टी के मनमाफिक नहीं है. इसके अलावा 2014 के चुनाव से पहले भाजपा में शामिल वैसे सांसदों के भी टिकट कट सकते हैं, जिनकी विचारधारा पार्टी से मेल नहीं खा रही है. इनमें बहराइच की ज्योतिबा बाई फूले और डुमरियागंज के जगदंबिका पाल हैं. बताया जाता है कि 2019 के चुनाव में भाजपा अपने मौजूदा कई सांसदों के टिकट काटकर नए चेहरों पर दांव आजमाना चाह रही है.

अगर कोई सरकार आरक्षण खत्म करने की हिमाकत करे तो थप्पड़ मारकर अपना अधिकार छीन लो : कल्याण सिंह

राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह ने आरक्षण को लेकर बड़ा बयान दिया है. हिन्दुस्तान में प्रकाशित खबर के मुताबिक उन्होंने कहा, ‘देश के 82 फीसदी लोगों को नाराज करके आरक्षण व्यवस्था खत्म करने का जोखिम कोई सरकार नहीं ले सकती है. अगर कोई सरकार यह हिमाकत करे तो थप्पड़ मारकर अपना अधिकार छीन लो.’ उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने ये बातें लखनऊ में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कहीं. कल्याण सिंह ने आगे कहा, ‘समय-समय पर भ्रांति फैलाई जाती है कि आरक्षण व्यवस्था खत्म हो जाएगी. ऐसा कुछ नहीं होगा.’ हालांकि, इसके आगे उन्होंने सवर्णों को गरीबी के आधार पर आरक्षण देने की भी वकालत की. कल्याण सिंह ने इस बारे में कहा, ‘अगर ऊंची जाति के गरीब लोगों को आरक्षण मिलता है तो हमें कोई आपत्ति नहीं है. बस हमारे अधिकार में से कटौती न की जाए.’

वैश्विक फंडों का भारत को लेकर आकर्षण साल 2013 के बाद अब सबसे निचले स्तर पर

वैश्विक फंडों का भारत को लेकर आकर्षण साल 2013 के बाद अब सबसे निचले स्तर पर है. बिजनेस स्टैंडर्ड की खबर की मानें तो इसकी वजह कच्चे तेल की बढ़ती कीमत और रुपये की कमजोरी है. बताया जाता है कि इससे आर्थिक संकेतकों पर बुरा असर पड़ा है. अखबार के मुताबिक उभरते बाजारों में निवेश किए जा रहे हर 100 डॉलर में से भारत की हिस्सेदारी केवल 9.5 डॉलर रह गई है. साल 2015 में यह आंकड़ा 16 डॉलर था. हालांकि मॉर्गन स्टैनली के इक्विटी रणनीतिकार जोनाथन गार्नर ने कहा कि तीन वर्ष पहले निवेशक जरूरत से ज्यादा निवेश कर रहे थे, लेकिन अब वे अपना निवेश घटा रहे हैं.