स्विस बैंकों में जमा भारतीयों के कालेधन में 2017 के दौरान 50 फीसदी की बढ़ोतरी पर मोदी सरकार ने सफाई दी है. केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने एक ब्लॉग में कहा है कि स्विस बैंकों में जमा सारे पैसे को कालाधन नहीं कहा जा सकता. अरुण जेटली के मुताबिक स्विस बैंकों में जमा ज्यादातर पैसा उन भारतीयों का है जो अब विदेशों में रह रहे हैं. उन्होंने विपक्ष पर इस मामले को बढ़ा-चढ़ाकर पेश करने का आरोप लगाया. कार्यकारी वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने भी इस मामले पर सरकार का पक्ष रखा है. उन्होंने कहा कि भारत और स्विटजरलैंड में जो समझौता हुआ है उसके मुताबिक स्विटजरलैंड का वित्त वर्ष का समाप्त होने पर इस पैसे से जुड़ा सारा डेटा सरकार के पास होगा. पीयूष गोयल ने कहा किऐसे में कालेधन या अवैध लेन-देन का अनुमान लगाने जरूरत नहीं है.

इससे पहले कांग्रेस ने इस खबर को लेकर मोदी सरकार पर हमला किया था. पार्टी अध्य़क्ष राहुल गांधी ने कहा कि एक समय था जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्विस बैंकों से कालाधन वापस लाने की बात करते थे, लेकिन अब सरकार स्विस बैंकों में कालाधन न होने की बात कहने लगी है.