जम्मू-कश्मीर में भारी बारिश की वजह से बाढ़ के आसार दिख रहे हैं. इसके चलते दक्षिणी और मध्य कश्मीर में बाढ़ से संबंधित अलर्ट की घोषणा की गई है. आज सुबह तक दक्षिणी कश्मीर के संगम और श्रीनगर के राम मुंशी बाग में पानी का स्तर खतरे के निशान से ऊपर चला गया है. अधिकारियों का कहना है कि भारी बारिश की वजह से झेलम नदी खतरे के निशान (21 फीट) से ऊपर बह रही है. इसे देखते हुए राज्य के अलग-अलग हिस्सों की लगातार निगरानी करने के लिए अधिकारियों को तैनात किया गया है.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक हालात पर नजर रखने के लिए श्रीनगर में उच्चाधिकारियों की एक बैठक भी हुई है. अधिकारियों ने बताया कि निचले इलाके में रहने वालों को चौकन्ना रहने और आपातकाल की स्थिति में इलाका खाली करने को कहा गया है. इसके अलावा घाटी के स्कूलों को एहतियातन बंद रखा गया है. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि हालात पर करीबी नजर रखी जा रही है. उन्होंने कहा कि लोगों को डरने की जरूरत नहीं है.

उधर, बारिश की वजह से पहलगाम और बालटाल के रास्ते होने वाली अमरनाथ यात्रा भी फिलहाल रोक दी गई है. अधिकारियों ने बताया कि बारिश से रास्ते खराब हो गए हैं जिसके चलते गुरुवार को शुरू हुई यात्रा शुक्रवार को दूसरी बार रोकनी पड़ी. सभी तीर्थयात्रियों को कैंपों में सुरक्षित भेज दिया गया है.