अमीरात एयरलाइंस ने अपना वह फैसला वा​पस ले लिया है जिसमें उसने अपनी उड़ानों के दौरान हिंदू भोजन (हिंदू मील) परोसने का विकल्प रद्द कर दिया था. एनडीटीवी के मुताबिक संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की इस विमानन कंपनी ने यह फैसला बुधवार को किया.

कपंनी की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया है, ‘उपभोक्ताओं से मिली फीडबैक के आधार पर उड़ानों में हिंदू भोजन के विकल्प को जारी रखने का फैसला किया गया है.’ इसके साथ ही कंपनी ने यह भी कहा है कि इस सुविधा के जारी रहने से हिंदू यात्रियों को यात्रा के दौरान खान-पान के ​विकल्प चुनने में आसानी होगी.

इससे पहले बीते मंगलवार को अमीरात एयरलाइंस ने हिंदू भोजन बंद करने की घोषणा की थी कंपनी ने इसे कड़ी समीक्षा के बाद लिया गया फैसला बताया था. साथ ही उसका यह भी कहना था कि उड़ान के दौरान कंपनी शाकाहारी जैन, भारतीय शाकाहारी, और बीफ (गौमांस) रहित मांसाहारी व्यंजन परोसती है और इनमें से यात्री अपना पसंदीदा विकल्प चुन सकते हैं. लेकिन इस फैसले की भारतीय यात्रियों ने काफी आलोचना की थी.

क्या है हिंदू भोजन?

हवाई यात्राओं के दौरान हिंदू भोजन का विकल्प सिर्फ अमीरात एयरलाइंस ही नहीं बल्कि अंतरराष्ट्रीय उड़ानों का परिचालन करने वाली दुनियाभर की अनेक विमानन कंपनियां मुहैया कराती हैं. हिंदू भोजन सुनने पर मन में इसके विशुद्ध शाकाहारी होने का ख्याल आता है लेकिन, वास्तव में ऐसा नहीं है. विमानन क्षेत्र में हिंदू भोजन के तहत एक-दो शाकाहारी व्यंजनों के अलावा एक-दो मांसाहारी व्यंजन शामिल किए जाते हैं. मांसाहारी व्यंजनों में मीट-मछली या चिकन-अंडा हो सकता है लेकिन, इसमें बीफ को नहीं शामिल किया जाता.