फुटबॉल विश्वकप के एक रोचक क्वार्टर फाइनल मुकाबले में शुक्रवार को बेल्जियम ने ख़िताब की प्रबल दावेदार ब्राज़ील को हरा दिया. वहीं पहले क्वार्टर फाइनल मे फ्रांस ने उरुग्वे को हराया. अब पहले सेमीफाइनल में फ्रांस और बेल्जियम का मुकाबला होगा. विश्वकप में संभवत: यह पहला मौका ही है जब ब्राज़ील, अर्जेंटीना और जर्मनी में से कोई भी टीम सेमीफाइनल में नहीं पहुंची है.

इस विश्वकप का सबसे रोचक क्वार्टर फाइनल बेल्जियम और ब्राज़ील के बीच हुआ. ब्राज़ील इससे पहले पांच बार विश्वकप जीत चुका है. उसे छठवीं बार जीत का दावेदार माना जा रहा था. पिछले 15 मैचों से यह टीम लगातार जीत भी रही थी. लेकिन इस अहम मुकाबले में टीम अपनी प्रतिष्ठा के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर सकी. मुकाबले की शुरूआत ब्राज़ील के लिए अच्छी रही. मैच के आठवें मिनट ब्राज़ील ने आक्रमण किया. उसके डिफेंडर थियागो सिल्वा को एक मौका मिला लेकिन वे गेंद को गोल में नहीं डाल पाए.

इसके बाद 13वें मिनट में बेल्जियम ने शुरूआती झटकों से उबरते हुए कॉर्नर हासिल किया. अनुभवी डिफेंडर विंसेट कोम्पनी ने अच्छा क्रॉस दिया और गेंद ब्राज़ील के मिडफील्डर फर्नान्डिन्हो की कोहनी से लगकर गोल में चली गई. फर्नान्डिन्हो के इस आत्मघाती गोल की मदद से बेल्जियम 1-0 से आगे हो चुकी थी. फिर बेल्जियम के स्टार मिडफील्डर केविन डि ब्रूने ने इस मैच में भी आक्रामक खेल दिखाया. इसका पूरा लाभ उनकी टीम को मिला. उन्होंने ही 31वें मिनट में अपनी टीम के लिए दूसरा गोल भी किया.

इस तरह मैच के आधे समय तक ब्राज़ील 0-2 से पिछड़ चुकी थी. दूसरे हाफ में टीम ने हमले बढ़ाए. उसका कुछ फायदा भी मिला. मैच के 76वें मिनट में शानदार हैडर से ब्राज़ील के रेनाटो आॅगस्तो ने गेंद गोल में डाल दी. इस तरह स्कोर 2-1 हो गया. लेकिन इसके बाद मैच के अंत तक बेल्जियम की रक्षा पंक्ति ने ब्राज़ील को कोई मौका नहीं दिया. इसके चलते मैच का नतीज़ा 2-1 से बेल्जियम के पक्ष में चला गया. बेल्जिमय ने 1986 के बाद पहली बार विश्व कप के सेमीफाइनल में पहुंचने की उपलब्धि हासिल की है.

इससे पूर्व पहले क्वार्टर फाइनल में फ्रांस ने उरुग्वे को 2-0 से हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई. फ्रांस ने छठवीं बार यह उपलब्धि हासिल की है. जबकि विश्वकप में उसने पहली बार उरुग्वे को हराया है. फ्रांस के लिए मैच के 40वें मिनट में राफेल वेरॉन ने पहला गोल किया. उन्होंने एंटोइन ग्रिजमैन की कॉर्नर किक पर हेडर से गेंद को गोलपोस्ट में पहुंचाया. वहीं दूसरे हाफ में मैच के 61वें मिनट में ग्रिजमैन ने खुद टीम के लिए गोल कर उसे 2-0 की बढ़त दिला दी. उरुग्वे 1966 के बाद पहली बार क्वार्टर फाइनल में हारा है.