जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने सोमवार को प्रदेश की पूर्व गठबंधन सरकार पर निशाना साधा है. द टाइम्स आॅफ इंडिया के मुताबिक उमर अब्दुल्ला ने कहा कि पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की पूर्व गठबंधन सरकार ने प्रदेश की जनता से बड़े-बड़े वादे किए लेकिन इन वादों को पूरा करने में वह पूरी तरह विफल रही.

प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री को लेकर उमर अब्दुल्ला ने आगे कहा कि कुछ समय पहले तक महबूबा मुफ्ती प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करते नहीं थकती थीं. आज जबकि सरकार गिर गई है तब वे भी मान रही हैं कि लोगों से किए वादे पूरे करने में उन्हें कामयाबी नहीं मिली. उन्होंने यह भी कहा, ‘प्रदेश की पूर्व गठबंधन सरकार के कार्यकाल में न तो जम्मू-कश्मीर का विकास हुआ और न ही यहां के लोगों को न्याय मिला.’

उमर अब्दुल्ला ने जम्मू में नेशनल कॉन्फ्रेंस की महिला कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए ये बातें कही हैं. यहां उनका यह भी कहना था, ‘आगामी चुनाव में पार्टी सत्ता हासिल करने के उद्देश्य से नहीं बल्कि आम लोगों की समस्याओं को हल करने के इरादे से लड़ेगी. अगर मुझे सत्ता का कोई लालच होता तो 2002 में भी मैं अपना पद नहीं छोड़ता.’

इससे पहले बीते महीने पीडीपी-भाजपा का गठबंधन टूटने के बाद वहां की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने अपना इस्तीफा दे दिया था. दोनों दलों के बीच आतंकवादियों के खिलाफ संघर्ष विराम को लेकर काफी समय से टकराव चल रहा था. पीडीपी जहां संघर्ष विराम जारी रखना चाहती थी तो वहीं भाजपा इसके पक्ष में नहीं थी. हालांकि केंद्र सरकार ने रमजान के महीने में एकतरफा संघर्ष विराम ​घोषित किया था पर घाटी में आतंकवादी हमलों के जारी रहने के मद्देनजर ईद के अगले दिन इसे खत्म कर दिया गया था.