प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन ने नोएडा में दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल फैक्ट्री का उद्घाटन कर दिया है. दोनों नेताओं ने संयुक्त रूप से फीता काटकर इस प्रोजेक्ट का शुभारंभ किया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मौके पर कहा कि इस यूनिट में आना उनके लिए सौभाग्य की बात है. प्रधानमंत्री ने इस यूनिट के लिए सैमसंग को बधाई देते हुए कहा, ‘5 हजार करोड़ का यह निवेश सैमसंग के साथ-साथ दोनों देशों के रिश्तों को भी मजबूत करेगा. आपकी इस फैक्ट्री से देश में मेक इन इंडिया को गति मिलेगी.’

इस दौरान मोदी ने अपनी सरकार की पीठ भी थपथपाई. उन्होंने कहा, ‘पिछले चार सालों में मोबाइल निर्माण क्षेत्र में भारत दूसरे नंबर पहुंच गया है. अब देश में मोबाइल निर्माता कंपनियों की संख्या 2 से बढ़कर 120 पहुंच गई है जिनमें से 50 से ज्यादा सिर्फ नोएडा में ही है.’ मोदी ने दावा किया कि उनकी सरकार बनने के बाद केवल मोबाइल निर्माण से जुड़े क्षेत्र में ही चार लाख से अधिक नौजवानों को रोजगार मिला है.

नोएडा के सेक्टर 81 में स्थित सैमसंग की यह फैक्ट्री करीब 35 एकड़ में फैली है. सैमसंग ने इसे बनाने के लिए करीब 5 हजार करोड़ का निवेश किया है. कंपनी के मुताबिक इस फैक्ट्री में 7 लाख मोबाइल फोन रोज बनाने की क्षमता होगी और इसमें सालाना 12 करोड़ मोबाइल फोन का निर्माण होने का अनुमान है. हालांकि, इस नई फैक्ट्री में मोबाइल के साथ-साथ सैमसंग के कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक सामान जैसे रेफ्रिजरेटर, वाशिंग मशीन और टेलीविजन का उत्पादन भी किया जाएगा. उत्तर प्रदेश सरकार के मुताबिक इससे करीब 35 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा.