सोमवार को चीन ने पाकिस्तान के लिए दो उपग्रह अंतरिक्ष में भेजे हैं. इन दोनों उपग्रहों को चीन के उत्तर-पश्चिमी हिस्से में स्थित जियूकान उपग्रह प्रक्षेपण केंद्र से सुबह करीब 11.56 बजे अंतरिक्ष में भेजा गया है. इन उपग्रहों के सफल प्रक्षेपण के साथ पाकिस्तान भी अब अंतरिक्ष में सुदूर संवेदी उपग्रह (रिमोट सेंसिंग सैटेलाइट) रखने वाले देशों में शामिल हो गया है.

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक इन उपग्रहों में से एक पीआरएसएस-1 का निर्माण चाइना एकेडमी आॅफ स्पेस टेक्नोलॉजी (सीएएसटी) ने किया था. चीन की तरफ से पाकिस्तान को बेचा गया यह पहला ऑप्टिकल रिमोट सेंसिंग उपग्रह था जबकि किसी विदेशी खरीदार के लिहाज से सीएएसटी द्वारा विकसित किया गया यह 17वां उपग्रह था.

उधर, पाक-टीईएस-1ए नाम के दूसरे उपग्रह को पाकिस्तान की अंत​रिक्ष एजेंसी स्पेस एंड अपर एटमॉस्फियर रीसर्च कमीशन (एसयूपीएआरसीओ) ने खुद बनाया था. पाकिस्तान में उपग्रहों के प्रक्षेपण संबंधी बुनियादी सुविधाओं के अभाव में इसे प्रक्षेपण के लिए चीन भेजा गया था.

मीडिया में आई रिपोर्टों के मुताबिक चीन से हासिल पीआरएसएस-1 उपग्रह का इस्तेमाल प्राकृतिक आपदाओं पर निगरानी रखने के अलावा कृषि अनुसंधान, निर्माण, सीमा व सड़क क्षेत्र की जानकारियां जुटाने के लिए किया जाएगा. वैसे अंतरिक्ष के क्षेत्र में चीन की तरफ से पाकिस्तान की मदद किए जाने का यह कोई पहला मौका नहीं है. अगस्त 2011 में भी चीन अपने रॉकेट के जरिये पाकिस्तान के लिए एक संचार उपग्रह का प्रपेक्षण कर चुका है.