पंजाब सरकार ने भारतीय महिला टी20 क्रिकेट की कप्तान हरमनप्रीत कौर से डीएसपी रैंक छीन लिया है. बताया जा रहा है कि अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित इस खिलाड़ी की डिग्री पुलिस की जांच में फर्जी निकली है जिसके बाद उनके खिलाफ यह कार्रवाई की गई है. टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक अगर पंजाब पुलिस उनके खिलाफ धोखाधड़ी और आपराधिक षड्यंत्र के आरोप के तहत एफआईआर दर्ज करती है तो उनसे अर्जुन पुरस्कार भी वापस लिया जा सकता है.

हरमनप्रीत कौर ने 2011 में अपनी बीए की डिग्री जमा कराई थी जो उन्हें कथित रूप से चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय से मिली थी. बीती एक मार्च को उन्हें डीएसपी बनाया गया था. अब उनकी सही शैक्षिक योग्यता पता चलने के बाद उन्हें पंजाब पुलिस में कॉन्स्टेबल का पद दिया जाएगा. मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के कार्यालय के अधिकारी ने बताया कि 12वीं पास होने के चलते हरमनप्रीत डीएसपी पद के योग्य नहीं हैं.

अधिकारी के मुताबिक राज्य सरकार हरमनप्रीत के खिलाफ कोई कार्रवाई करने के पक्ष में नहीं है. उन्होंने कहा, ‘वे अंतरराष्ट्रीय प्रतिष्ठा वाली खिलाड़ी हैं जिन्हें क्रिकेट में उनकी उपलब्धियों के आधार पर डीएसपी का पद दिया गया था.’ इस बारे में जब हरमनप्रीत से संपर्क किया गया तो उन्होंने ज्यादा बात करने से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा, ‘मेरी तबीयत ठीक नहीं इसलिए आराम कर रही हूं. बाद में बात करूंगी.’