एवनफील्ड भ्रष्टाचार मामले में पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनकी बेटी मरियम शरीफ की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. बीते हफ्ते पाकिस्तान के नेशनल अकाउंटेबिलिटी ब्यूरो (एनएबी) ने इस मामले में उन दोनों को 10 और सात साल जेल की सजा सुनाई थी. अब उनका नाम पाकिस्तान की एग्जिट कंट्रोल लिस्ट (ऐसे लोगों की सूची जो देश छोड़कर नहीं जा सकते) में शामिल कर दिया गया है.

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक एनएबी ने इससे पहले इसी साल फरवरी, जून और जुलाई के दौरान सरकार से नवाज शरीफ और मरियम का नाम इस सूची में डालने को कहा था, लेकिन तब सरकार के कान पर जूं नहीं रेंगी थी. ऐसा न होने से ही बीते महीने की 14 तारीख को नवाज शरीफ अपनी पत्नी कुलसुम नवाज के इलाज के लिए लंदन चले गए थे. फिलहाल मरियम शरीफ भी वहीं हैं. खबरों के मुताबिक नवाज और मरियम इसी हफ्ते 13 तारीख को इंग्लैंड से पाकिस्तान पहुंच सकते हैं. माना जा रहा है कि पाकिस्तान पहुंचते ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा. बताया गया है कि लाहौर में गिरफ्तार करने के बाद उन्हें रावलपिंडी स्थित एक जेल में रखा जाएगा.

इससे पहले बीते शुक्रवार नवाज शरीफ को 10 और मरियम शरीफ को सात साल कैद की सजा सुनाई गई थी. इसी मामले में नवाज शरीफ के दोनों बेटों को भगोड़ा करार देते हुए एनएबी ने उनके दामाद मोहम्मद सफदर को भी एक साल की सजा दी थी. इसी सोमवार को पाकिस्तान पुलिस ने मोहम्मद सफदर को रावलपिंडी से गिरफ्तार किया था. फिलहाल उन्हें अदियाला जेल में रखा गया है. इस दौरान पाकिस्तान पहुंचने से पहले ही नवाज शरीफ इस फैसले को हाईकोर्ट में चुनौती देने की घोषणा कर चुके हैं.