पिछले कुछ दिनोंं से हो रही लगातार भारी बारिश और फिर इससे आई बाढ़ ने जापान में तबाही मचा रखी है. इस प्राकृतिक आपदा में अब तक मरने वालों की संख्या 199 तक पहुंच गई है. बड़ी संख्या में लोग अब भी लापता बताए जा रहे हैं.

जापान के एक शीर्ष अधिकारी ने इसे मौसम संबंधी बीते तीन दशकों की सबसे बड़ी आपदा बताया है. उन्होंने कहा कि बुधवार को जापान के प्रधानमंत्री शिंज़ो आबे ने बारिश और बाढ़ से सर्वाधिक प्रभावित इलाकों का दौरा किया. शुक्रवार को भी वे कुछ इलाकों की स्थिति का जायजा लेंगे. द नेशनल के मुताबिक इस आपदा के मद्देनजर शिंज़ो आबे ने अपनी विदेश यात्रा रद्द कर दी हैं. इस दौरान उन्होंने कहा है, ‘शिविरों में असुविधाजनक जिंदगी जीने को मजबूर लोगों को बहुत ज्यादा समय तक यहां नहीं रहना होगा. लोगों की मदद के लिए सरकार हर आवश्यक उपाय कर रही है.’ इसके साथ ही राहत और बचाव में तेजी के लिए सरकार ने एक आपातकालीन फंड भी जारी किया है.

खबरों के मुताबिक हिरोशिमा में नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. कुराशाकी शहर में हर तरफ पानी भरा हुआ है. यहां लोगों को अपने घरों की छतों पर शरण लेनी पड़ी है. कई अन्य शहरों में भी बाढ़ व भूस्खलन की वजह से जापान के करीब 10 हजार लोगों को विस्थापन का सामना करना पड़ा है. ये लोग सरकार की तरफ से बनाए शिविरों में रह रहे हैं.