दिल्ली में बन रहे ‘कूड़े के पहाड़ों’ को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने उपराज्यपाल अनिल बैजल को फटकार लगाई है. इस खबर को कई अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. शीर्ष अदालत ने उपराज्यपाल की आलोचना करते हुए कहा है कि उनके (राज्यपाल) के पास इस गंदगी को साफ कराने संबंधी शक्तियां हैं पर वे इस पर गंभीरता के साथ अमल नहीं कर रहे. साथ ही, सुप्रीम कोर्ट ने यह भी साफ किया कि इस काम के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता.

उधर, जून में खुदरा महंगाई दर बढ़कर पांच फीसदी हो गई है. यह बीते पांच महीने में इसका सबसे ऊंचा स्तर है. यह खबर भी अखबारों की प्रमुख सुर्खियों में शामिल है. बीते मई में खुदरा महंगाई की दर 4.87 फीसदी थी. इस उछाल की मुख्य वजह पेट्रोल और डीजल की कीमतों में हो रही बढ़ोतरी को माना जा रहा है. इसके अलावा औद्योगिक उत्पादन की विकास दर में भी गिरावट दर्ज की गई है. मई में देश के औद्योगिक उत्पादन में 3.2 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. बीते अप्रैल में यह आंकड़ा 4.9 फीसदी था.

न्यायपालिका में सुधार की जगह क्रांति जरूरी : न्यायाधीश रंजन गोगोई

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठतम न्यायाधीश रंजन गोगोई ने न्यायपालिका को आम आदमी की सेवा लायक बनाए रखने के लिए इसमें सुधार की जगह क्रांति पर जोर दिया है. अमर उजाला में छपी खबर के मुताबिक उनका मानना है कि न्यायपालिका को और अधिक सक्रिय और आगे बढ़कर भूमिका निभानी चाहिए. न्यायाधीश रंजन गोगोई ने गुरुवार को तीसरे रामनाथ गोयनका स्मृति व्याख्यान में कहा कि न्यायपालिका ‘उम्मीद का आखिरी किला है.’ उनका आगे कहना था कि आजादी के पहले 50 वर्षों में अदालतों ने बेहद मजबूत न्यायशास्त्र निर्मित किया, जिसका हम अब फायदा पा रहे हैं.

सीताराम येचुरी ने 2019 के चुनाव से पहले भाजपा के खिलाफ महागठबंधन की संभावना से इनकार किया

सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी ने 2019 के चुनाव से पहले भाजपा के खिलाफ महागठबंधन की संभावना से इनकार कर दिया है. दैनिक जागरण में छपी खबर के मुताबिक उन्होंने कहा, ‘1996 में राष्ट्रीय मोर्चा से लेकर 2009 में यूपीए तक सभी गठबंधन चुनाव के बाद ही बने थे. क्षेत्रीय दल जरूर भाजपा के खिलाफ एकजुट होंगे. लेकिन, चुनाव बाद ही गठबंधन आकार लेगा.’ इसके आगे सीताराम येचुरी ने आगे भाजपा के खिलाफ लड़ाई पर ममता बनर्जी को कठघरे में खड़ा किया. उन्होंने कहा, ‘पीएम मोदी के साथ ममता की साठगांठ है. वे जो भी राजनीतिक कदम उठा रही हैं, उससे भाजपा को ही फायदा होता है.’ साथ ही, उन्होंने पश्चिम तृणमूल कांग्रेस प्रमुख के साथ भाजपा के खिलाफ कोई भी मंच साझा करने से इनकार किया.

ममता बनर्जी ने भाजपा पर मिशनरीज ऑफ चैरिटी की छवि खराब करने का आरोप लगाया

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भाजपा पर मदर टेरेसा द्वारा शुरू की गई मिशनरीज ऑफ चैरिटी की छवि खराब करने का आरोप लगाया है. नवभारत टाइम्स में प्रकाशित खबर के मुताबिक उन्होंने कहा कि सिस्टरों को निशाना बनाया जा रहा है. दूसरी ओर, आरएसएस के नेता राजीव तुली और भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने बच्चा बेचने के आरोपों को लेकर मिशनरीज ऑफ चैरिटी को निशाने पर लिया है. राजीव तुली ने कहा कि यदि ये आरोप सही पाए जाते हैं तो मदर टेरेसा को दिया गया भारत रत्न सम्मान वापस लेना चाहिए. उधर, सुब्रमण्यन स्वामी ने भी राजीव तुली की बातों का समर्थन किया है. उन्होंने ब्रिटिश लेखक क्रिस्टोफर हिचेन्स की किताब ‘द मिशनरीज पोजिशन’ का जिक्र करते हुए बताया कि लेखक ने मदर टेरेसा द्वारा की कई धोखाधड़ी के दस्तावेज जुटाए हैं.

डोनाल्ड ट्रंप को गणतंत्र दिवस के मौके पर मुख्य अतिथि का न्यौता

साल 2015 की तरह एक बार फिर अमेरिका के राष्ट्रपति गणतंत्र दिवस के मौके पर मुख्य अतिथि हो सकते हैं. द टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को इसके लिए बीते अप्रैल में न्यौता भेजा गया है. हालांकि, इस पर उनकी प्रतिक्रिया का अब तक इंतजार है. बताया जाता है कि इस न्यौते पर अमेरिका सकारात्मक प्रतिक्रिया दे सकता है. इससे पहले 2015 में तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा गणतंत्र दिवस के मौके पर मुख्य अतिथि के तौर पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराई थी.