भारतीय एथलीट हिमा दास ने फिनलैंड में आयोजित आईएएएफ विश्व अंडर-20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप की 400 मीटर की दौड़ में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रच दिया है. असम की रहने वाली 18 साल की हिमा दास यह उपलब्धि हासिल करने वाली पहली भारतीय महिला एथलीट हैं. दौड़ पूरी करने में उन्होंने 51.46 सेकंड का समय लिया. दूसरे नंबर पर रहीं रोमानिया की आंद्रे मिकलोस ने 52.07 सेकंड में दौड़ पूरी की. वहीं, अमेरिका की टेलर मैनसन 52.28 सेकंड के साथ तीसरे स्थान पर रहीं.

दौड़ के दौरान 35वें सेकेंड तक हिमा शीर्ष तीन एथलीटों में नहीं थीं. लेकिन इसके बाद उन्होंने ऐसी रफ्तार पकड़ी कि दौड़ खत्म होने से पहले सबसे आगे पहुंच गईं और इतिहास बना दिया. स्वर्ण पदक लेते समय जब राष्ट्रगान बज रहा था तो उनकी आंखों से गर्व और खुशी के आंसू छलक पड़े. इससे पहले सेमीफाइनल की दौड़ में भी हिमा अव्वल रही थीं. बुधवार को हुई यह दौड़ उन्होंने 52.10 सेकंड में पूरी कर ली थी. पहले राउंड की रेस भी उन्होंने 52.25 सेकंड में खत्म की थी.

हिमा दास अप्रैल में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स की अंडर-20 दौड़ में छठवें स्थान पर रही थीं. उन्होंने 400 मीटर की दौड़ 51.32 सेकंड में पूरी की थी. तब से वे अपनी रफ्तार को और बेहतर करने में लगी हुई थीं. हाल में उन्होंने गुवाहाटी में आयोजित नेशनल इंटर-स्टेट चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता था.