‘2019 के पहले देश का माहौल यदि गड़बड़ाया तो उसकी जिम्मेदार कांग्रेस ही होगी.’  

— निर्मला सीतारमण, रक्षा मंत्री

रक्षा मंत्री और भाजपा नेता निर्मला सीतारमण की यह टिप्पणी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के एक कथित बयान को लेकर पार्टी पर निशाना साधते हुए आई है. उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस अपने फायदे के लिए गंदा सांप्रदायिक खेल खेल रही है. इससे देश का सांप्रदायिक सौहार्द बिगड़ रहा है.’ निर्मला सीतारमण ने आगे कहा, ‘उसके ऐसे व्यवहार से देश में 1947 जैसा विभाजन और सांप्रदायिक तनाव का माहौल बन जाएगा.’ पिछले दिनों राहुल गांधी के हवाले से एक अखबार ने लिखा था कि कांग्रेस मुस्लिमों की पार्टी है. लेकिन कांग्रेस ने इस बयान को झूठा करार दिया.

‘मोदी उसी तरह धार्मिक कट्टरता फैला रहे हैं, जैसा जिया उल हक ने पाकिस्तान में किया था.’  

— दिग्विजय सिंह, कांग्रेस नेता

यह बयान कांग्रेस नेता ​दिग्विजय सिंह ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए मध्य प्रदेश में शुक्रवार को दिया है. उन्होंने सरकार को नसीहत देते हुए कहा है, ‘धार्मिक कट्टरता से आतंकवाद पनपता है. पाकिस्तान में जिया उल हक ने जब धार्मिक कट्टरता फैलायी तो इससे आतंकवाद का तेजी से प्रसार हुआ.’ दिग्विजय सिंह ने आगे कहा, ‘अब भारत में भी यही हो रहा है. हिंदुत्व के नाम पर मोदी सरकार भी यही काम कर रही है.’ इसके साथ ही उनका कहना था, ‘जिया उल हक ने जमात-ए-इस्लामी को काफी महत्व दिया और फिर तालिबान को भी. लेकिन आतकंवाद के मामले में उसका हाल भारत से भी बुरा है. अफगानिस्तान का भी यही हाल है.’


 ‘भाजपा-पीडीपी गठबंधन ने जम्मू और कश्मीर से शांति छीन ली.’  

— रणदीप सिंह सुरजेवाला, कांग्रेस के प्रवक्ता

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला का यह बयान भाजपा और पीडीपी पर कश्मीर में अशांति फैलाने का आरोप लगाते हुए शुक्रवार को आया. भाजपा और पीडीपी के टूट चुके गठबंधन को उन्होंने केवल ताकत पाने के लिए बनाया गया गठजोड़ करार दिया है. रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा, ‘पिछले चार साल में घाटी में हमारे कई जवान शहीद हो गए. इसके बावजूद अभी तक मोदी की कश्मीर नीति किसी की समझ में नहीं आ सकी.’ व्यंग्य के अंदाज में उन्होंने यह भी कहा कि पता नहीं उनकी नीति ‘साड़ी-शॉल’ वाली है या खुफिया वार्ता करने की.


‘बदला लेने के लिए मुझे झूठे मामले में फंसाया गया है.’  

— नवाज शरीफ, पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का यह बयान शुक्रवार को अपने मुल्क लौटने से पहले संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में आया. लंदन से यूएई पहुंचने के बाद उन्होंने कहा, ‘मैं भावी पीढ़ियों को बचाने की खातिर पाकिस्तान लौट रहा हूं.’ नवाज शरीफ ने आगे कहा कि उन पर अपने मुल्क का काफी कर्ज बकाया है जिसे चुकाने के लिए वे वहां जा रहे हैं. नवाज शरीफ का कहना था, ‘मैं वह कर रहा हूं जो मुझे करना चाहिए. लोकतंत्र के लिए मैं अपना संघर्ष फिर आगे बढ़ाने जा रहा हूं.’ अगले पखवाड़े पाकिस्तान में होने वाले प्रधानमंत्री पद के चुनावों को संदिग्ध करार देते हुए उन्होंने यह भी कहा कि इसके नतीजों पर किसी को यकीन नहीं होगा.