भारतीय एथलीट हिमा दास द्वारा फिनलैंड में आयोजित आईएएएफ विश्व अंडर-20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप की 400 मीटर की दौड़ में स्वर्ण पदक जीतने की खबर आज सोशल मीडिया पर खूब चर्चा में रही. असम की रहने वाली 18 साल की हिमा दास यह उपलब्धि हासिल करने वाली पहली भारतीय महिला एथलीट हैं और इस उपलब्धि पर उन्हें चहुंओर से बधाई संदेश मिल रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिमा को बधाई देते हुए ट्वीट में लिखा है कि आने वाले सालों में यह उपलब्धि कई नए एथलीटों को प्रेरित करती रहेगी. वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने हिमा दास की इस दौड़ का वीडियो ट्विटर पर पोस्ट करते हुए उन्हें बधाई दी है.

सोशल मीडिया पर राजनीतिक छींटाकसी हर मुद्दे पर चलती रहती है सो यहां इस खबर की आड़ में भी नेताओं और राजनीतिक पार्टियों पर तंजभरी प्रतिक्रियाएं आई हैं. गोपाल कृष्ण‏ ने लिखा है, ‘काश मोदी जी 10 साल पहले प्रधानमंत्री बने होते तो ओलंपिक रेस में भी मेडल ही मेडल मिलते.... मनमोहन सिंह जी ने तो रफ्तार ही कम कर डाली थी.’ भारत को मिली इस उपलब्धि के हवाले से यहां कई लोगों ने कन्याभ्रूण हत्या के खिलाफ और महिला सशक्तिकरण के पक्ष में प्रतिक्रियाएं दी हैं. ट्विटर पर एक यूज़र ने लिखा है, ‘आज अगर आपको उत्तर-पूर्व की लड़की हिमा दास पर गर्व है तो प्लीज कल से उनके साथ भेदभाव न करें.’

शौनक रॉय | @ThatGuyShaunak

...मैं इस बात को लेकर बहुत खुश हूं इंटरनेट पहले वनडे मैच में इंग्लैंड पर भारत को मिली जीत के बजाय गोल्ड मेडलिस्ट हिमा दास को लेकर खुशियां जता रहा है.

सतीश आचार्य | @satishacharya

असम के धान के खेतों से...

अरुण नाइक | @arunbnaik

यह जरूरी नहीं कि देश को गौरवान्वित करने के लिए रूस (फुटबॉल विश्वकप) ही जाया जाए, फिनलैंड में दौड़ लगाकर भी यह काम किया जा सकता है.

आनंद महिंद्रा | @anandmahindra

कुछ दिन पहले मुझे यह मेरे इनबॉक्स में मिला था. किसी वजह से मैंने इसे बचाए रखा... अब इसे इस्तेमाल कर रहा हूं, यह बताने के लिए कि हिमा दास के दौड़ जीतने के बाद मैंने कैसा महसूस किया...