पाकिस्तान में शुक्रवार को हुए दो बम धमाकों में मरने वालों की संख्या अब तक 130 के पार पहुंच गई है. समाचार एजेंसी एएफपी ने सूत्रों के हवाले से यह आंकड़ा दिया है. बलूचिस्तान प्रांत की राजधानी क्वेटा के मस्तंग कस्बे में हुए धमाके में सबसे ज़्यादा मारे गए हैं. इसे 2014 के बाद सबसे बड़ा आतंकी हमला बताया जा रहा है.

बलूचिस्तान प्रांत के गृह मंत्री आग़ा उमर बंगलज़ई के मुताबिक मस्तंग कस्बे में हुए धमाके में 128 लोगों की मौत हो चुकी है. इस आतंकी हमले की ज़िम्मेदारी इस्लामिक स्टेट (आईएस) के आतंकियों ने ली है. सरकारी अधिकारियों के मुताबिक इस हमले में 150 से ज़्यादा लोग घायल हुए हैं. ऐसे में मरने वालों की संख्या और बढ़ने से इंकार नहीं किया जा सकता. मरने वालों में बलूचिस्तान अवामी पार्टी का एक उम्मीदवार भी शामिल है. यह एक आत्मघाती हमला था.

इससे पहले पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वाह प्रांत में भी एक बम धमाका हुआ था. इसमें चार लोगों की मौत हो गई थी. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक यह धमाका उस वक्त हुआ जब जमीयत-ए-उलेमा इस्लाम (एफ) के नेता अकरम खान दुर्रानी एक चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे. दुर्रानी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के अध्यक्ष इमरान खान के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं. स्थानीय पुलिस के मुताबिक इस धमाके में दुर्रानी को कोई चोट नहीं पहुंची है.

पाकिस्तान में इसी महीने की 25 तारीख को आम चुनाव होने हैं. इस चुनाव के प्रचार के दौरान खैबर पख्तूनवा प्रांत में हुआ यह दूसरा आतंकी हमला है. इससे पहले इसी सोमवार को एक चुनावी सभा के दौरान एक शक्तिशाली आत्मघाती बम धमाके के जरिए आतंकियों ने अवामी नेशनल पार्टी के प्रत्याशी हारून बिलौर की हत्या कर दी थी. तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान के आतंकियों ने यह हमला किया था. इसमें बिलौर के अलावा 19 अन्य लोग भी मारे गए थे.