‘हिंदू-पाकिस्तान’ वाले बयान को लेकर कांग्रेस सांसद शशि थरूर फंसते नजर आ रहे हैं. कोलकाता की एक अदालत ने उन्हें समन भेजा है. सुमित चौधरी नाम के एक वकील ने शशि थरूर के खिलाफ धार्मिक भावनाओं को आहत करने और संविधान के अपमान का आरोप लगाते हुए याचिका दायर की थी. इसी पर सुनवाई करते हुए अदालत ने उन्हें 14 अगस्त को पेश होने को कहा है.

कुछ दिन पहले केरल के तिरुवनंतपुरम में आयोजित एक कार्यक्रम में शशि थरूर ने कहा था कि अगर भाजपा 2019 में फिर से सत्ता में आती है तो देश ‘हिंदू पाकिस्तान’ बन जाएगा. उनके इस बयान पर पहले ही काफी विवाद हो चुका है. इसके बाद भाजपा ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से माफी की मांग की थी. उधर, कांग्रेस ने शशि थरूर को इशारों-इशारों में संभलकर शब्दों का चयन करने की नसीहत दी थी.

बढ़ते विवाद को देखते हुए बाद में शशि थरूर ने अपने बयान का बचाव भी किया था. उन्होंने फेसबुक पर लिखा था, “बीजेपी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जिस हिंदू राष्ट्र की कल्पना करती है वह पाकिस्तान की वर्तमान स्थिति की तरह ही है. एक ऐसा राष्ट्र जो धर्म के आधार पर बना हो और अल्पसंख्यकों के साथ भेदभाव करता हो.”