कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की आलोचना करने के लिए राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ने अपनी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता शंकर चरण त्रिपाठी की उनके पद के साथ पार्टी से भी छुट्टी कर दी है. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक यह फैसला सोमवार को किया गया. बीते हफ्ते संसद में अविश्वास प्रस्ताव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से गले लगने पर शंकर चरण त्रिपाठी ने राहुल गांधी की निंदा की थी. एक अखबार से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा था, ‘राहुल गांधी बीते 15 वर्षों से सांसद हैं. उनके जैसे नेता से दूसरी पार्टी के नेता से गले लगने और सदन में आंख मारने जैसी हरकतों की उम्मीद नहीं की जा सकती. सदन में अनेक कैमरे लगे हुए हैं इसके अलावा यहांं तमाम सुरक्षाकर्मी तैनात रहते हैं ऐसी घटनाएं किसी की नजर में भी आ सकती हैं. इन परिस्थितियों में उनका आंख मारना अशोभनीय है.’

शंकर चरण त्रिपाठी ने यह भी कहा था कि अगले साल होने वाले आम चुनाव के दौरान पार्टी राहुल गांधी को प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी के तौर पर पेश किया जा रहा है. ऐसे में उनके द्वारा की जाने वाली यह हरकतें अशोभनीय हैं और उन्हें ऐसी बचकानी हरकतें करने से बचना चाहिए.

हाल के दिनों में यह दूसरी बार हुआ है जब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की निंदा करने की वजह से किसी पार्टी के नेता को अपने पद से हाथ धोना पड़ा है. इससे पहले बीते हफ्ते राहुल गांधी को विदेशी मूल का बताते हुए उनके बारे में कुछ आपत्तिजनक टिप्पणियां करने पर बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक जय प्रकाश सिंह को उनके पद से हटा दिया था. तब मायावती ने कहा था कि लखनऊ में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बैठक के दौरान जय प्रकाश सिंह ने जो बयान दिए वह उनके निजी विचार थे.

बता दें कि बिहार में कांग्रेस आरजेडी का सहयोगी दल है. इसके अलावा इसी साल के अंत में होने वाले तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस बसपा के साथ मिलकर चुनाव लड़ने पर विचार कर रही है. उत्तर प्रदेश में हुए हाल के उपचुनाव में भी कांग्रेस ने बसपा का साथ दिया था.