अभिनेता से नेता बने कमल हासन ने कहा है, ‘पूरा देश असहिष्णु होता जा रहा है. मैं आज के हालात में ‘हे राम’ जैसी फिल्म कभी नहीं बना सकता था. यह राजनीति में विरोधी विचारधाराओं को दर्शाने वाली एक प्रभावशाली फिल्म थी.’

तमिलनाडु की राजनीति में नई पारी शुरू कर चुके कमल हासन शुक्रवार को मीडिया से बात कर रहे थे. वे अपनी फिल्म ‘विश्वरूपम 2’ के प्रचार के लिए केरल आए हुए थे. यहीं यह भी बताते चलें कि साल 2000 में आई फिल्म ‘हे राम’ को कमल हासन ने लिखा था. वे इसके निर्माता-निर्देशक भी थे. न्यूज18 के मुताबिक कमल हासन ने अपनी फिल्म की ही बात नहीं की.

उन्होंने कहा कि इन हालात में मलयालम लेखक एमटी वासुदेवन नायर ‘निर्मलयम’ जैसी फिल्म भी नहीं बना सकते थे. यह केरल के गांवों में मंदिरों की उपेक्षा और उन पर निर्भर परिवारों की समस्याओं पर आधारित फिल्म थी. ‘निर्मलयम’ को 1973 में सर्वश्रेष्ठ फिल्म का राष्ट्रीय पुरस्कार मिला था. कमल ने कहा, ‘मैं यह देख कर हैरान हूं कि केरल जैसा राज्य भी असहिष्णुता की राजनीति पर चल रहा है. ज़ाहिर तौर पर ऐसे में सभी असहिष्णु ताकतों के खिलाफ एक होने का समय आ गया है.’