विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप- 2018 के क्वार्टर फाइनल मुकाबले में भारत की स्टार शटलर पीवी सिंधू ने जापान की नियोमी ओकुहारा पर शानदार जीत दर्ज करते हुए सेमीफाइनल में जगह बना ली है. इसके साथ उन्हें कांस्य पदक मिलना भी लगभग तय हो गया है. हालांकि अगर वे आगे भी जीतती हैं तो वे रजत या स्वर्ण पदक हासिल कर सकती हैं.

सेमीफाइनल मुकाबले में शनिवार को पीवी सिंधू की भिडंत जापान की अकाने यामागुची के साथ होगी. भारत और जापान की इन दोनों खिलाड़ियों के बीच अब तक 10 मुकाबले खेले गए हैं जिनमें से छह में सिंधू को जबकि चार में यामागुची को जीत मिली है.

उधर, शुक्रवार को खेले गए क्वार्टर फाइनल में पीवी सिंधू ने पहला गेम आसानी के साथ 21-17 से जीता. लेकिन दूसरे गेम में नियोमी ओकुहारा ने वापसी करते हुए 9-3 की बढ़त बना ली. पर छह अंकोंं से पिछड़ने के बावजूद सिंधू ने उम्मीदें नहीं छोड़ीं और एक-एक अंक बटोरते हुए स्कोर 11-11 की बराबरी पर ला दिया. इसके बाद एक-एक अंकों की बराबरी के साथ मुकाबला आगे बढ़ा. जब दोनों शटलरों का स्कोर 19-19 की बराबरी पर पहुंचा तो पीवी सिंधू ने लगातार दो अंक झटकते हुए मैच को 21-19 से अपने नाम कर लिया.

पीवी सिंधू के सेमीफाइनल में पहुंचने से विश्वकप प्रतियोगिता में भारत का पदक पक्का हो गया है. लेकिन आज के मुकाबले में अगर सिंधू जीत हासिल कर लेती हैं तो उन्हें पदक का रंग बदलने में कामयाबी मिल सकती है. उधर, भारत की साइना नेहवाल के अलावा साईं प्रणीत और किदांबी श्रीकांत जैसे स्टार शटलर पहले ही इस चैंपियनशिप से बाहर हो चुके हैं.