भारत-इंग्लैंड टेस्ट सीरीज के पहले टेस्ट मैच में टीम इंडिया को हार का सामना करना पड़ा है. बर्मिंघम में खेले गए इस मैच के चौथे दिन ही भारतीय बल्लेबाजी बिखर गई और इस तरह इंग्लैंड की टीम ने उसे 31 रनों से हरा दिया. दूसरी पारी में इंग्लैंड ने भारत के सामने 194 रनों का लक्ष्य रखा था, लेकिन टीम 162 रन पर ही सिमट गई. दूसरी पारी में भारत की तरफ से कप्तान विराट कोहली ने सबसे ज्यादा 51 और हार्दिक पंड्या ने 31 रनों का योगदान दिया. इस जीत के साथ ही इंग्लैंड ने पांच मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली है. मैच की दोनों पारियों में इंग्लैंड ने क्रमश: 287 और 180 रन बनाए थे. वहीं, भारतीय टीम अपनी पहली पारी में 274 रन बना पाई थी, जिसमें विराट कोहली की 149 रनों की शतकीय पारी का अहम योगदान था.

तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक भारत का स्कोर पांच विकेट पर 110 रन था. चौथे दिन खेलने उतरी भारतीय टीम को पहले ही ओवर में झटका मिला. इंग्लैंड के गेंदबाज जेम्स एंडरसन ने दिनेश कार्तिक को चलता कर भारत को छठवां झटका दिया. उस समय टीम के स्कोर में दो ही रन जुड़े थे. हालांकि उस समय विराट कोहली क्रीज पर मौजूद थे और भारत की जीत की उम्मीद बनी हुई थी. फिर कार्तिक के बाद आए हार्दिक पंड्या के साथ उन्होंने खेलना शुरू किया, लेकिन सिर्फ 29 रनों की साझेदारी के बाद बेन स्टोक्स ने विराट कोहली को एलबीडब्ल्यू कर दिया. उसी ओवर में स्टोक्स ने मोहम्मद शमी को खाता खोले बिना विकेट पीछे कैच करवा दिया. उनके बाद ईशांत शर्मा भी 11 रन बनाकर आउट हो गए. उन्हें आदिल रशीद ने एलबीडब्ल्यू किया.

इससे पहले तीसरे दिन के खेल में इंग्लैंड के मुख्य बल्लेबाज कुछ खास नहीं कर सके थे. हालांकि पुछल्ले बल्लेबाज रन बनाने में कामयाब रहे. उन्होंने पांच विकेट लेने वाले ईशांत शर्मा और तीन विकेट लेने वाले आर अश्विन को खासा परेशान किया. ऑलराउंडर सैम करन ने 63 रनों की पारी खेलकर इंग्लैंड का स्कोर 194 तक पहुंचा दिया. सैम ने अपनी पारी में नौ चौके और तीन छक्के लगाए थे. बाद में लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम का टॉप ऑर्डर इंग्लैंड के गेंदबाजी आक्रमण के आगे नहीं टिक पाया. पहले स्टुअर्ट ब्रॉड ने मुरली विजय और शिखर धवन को आउट किया. बाद में राहुल 13 रन बनाकर पैवेलियन लौट गए. तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक भारतीय टीम पांच विकेट खोकर 110 रन ही बना पाई थी.