इंडोनेशिया के पर्यटक द्वीप लोंबोक में रविवार को आए भूकंप में दर्जनों लोगों की मौत हो गई. रिक्टर पैमाने पर भूकंप की तीव्रता सात बताई गई है. लोंबोक के पड़ोसी द्वीप बाली में भी इसके झटके महसूस किए गए हैं. इंडोनेशिया के नेशनल डिजास्टर मिटिगेशन एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो पुरवो नुगरोहो ने बताया कि अब तक 82 लोग मारे गए हैं और सैकड़ों घायल हैं. प्रवक्ता के मुताबिक हजारों घरों को नुकसान हुआ है. उन्होंने कहा कि ज्यादातर लोगों की मौत मकानों के ढहने की वजह से हुई है.

हिंदुस्तान टाइम्स ने यूएस जियोलॉजिकल सर्वे के हवाले से बताया है कि भूकंप के बाद समुद्र लहरों में हल्का उछाल देखा गया है. लिहाजा तीन गांवों में सूनामी की चेतावनी भी जारी की गई है. भूकंप के चलते लोंबोक हवाई अड्डे की बत्ती भी गुल हो गई. हालांकि इंडोनेशिया के नागरिक विमानन महानिदेशक ने बताया कि लोंबोक और बाली के हवाई अड्डों पर विमानों की आवाजाही जारी है.

भूकंप के लिहाज से इंडोनेशिया एक संवेदनशील इलाका है. प्रशांत महासागर के क्षेत्र में होने के चलते यहां कई ज्वालामुखी और जमीनी दरारें मिलती हैं. साल 2004 में यहां के सुमात्रा द्वीप 9.1 की तीव्रता वाला भूकंप आया था. तब भूकंप के बाद आई सूनामी ने कई देशों में करीब दो लाख 30 हजार लोगों की जान ले ली थी. ताजा भूकंप से पहले बीती 29 जुलाई को लोंबोक में 6.4 की तीव्रता वाला भूकंप आया था जिसमें 16 लोगों की मौत हो गई थी.