‘आज हमने जमीन से जुड़ा एक नेता, एक विचारक और एक लेखक खो दिया.’

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

नरेंद्र मोदी ने यह बात द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) नेता एम करुणानिधि के निधन पर शोक जाहिर करते हुए कही है. उन्होंने यह भी कहा है कि करुणानिधि ने अपना पूरा जीवन गरीबों और हाशिए पर पहुंचे लोगों की भलाई के प्रति समर्पित कर दिया. 94 वर्षीय करुणानिधि पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थे. बीते महीने इलाज के लिए उन्हें चेन्नई के कावेरी अस्पताल में दाखिल कराया गया था. मंगलवार की शाम इसी अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांस ली. देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अलावा विभिन्न पार्टियों के नेताओं ने भी उनके निधन पर शोक जताया है.


‘राज्यसभा के उप सभापति पद पर अगर कोई महिला चुनी जाती है तो मुझे बेहद खुशी होगी.’

— वंदना चव्हाण, नेशनल कांग्रेस पार्टी की सांसद

वंदना चव्हाण का यह बयान इस पद के लिए इसी महीने की नौ तारीख को होने वाले चुनाव के मद्देनजर आया है. खबरों के मुताबिक भाजपा के खिलाफ एकजुट विपक्षी दलों ने इस चुनाव में वंदना चव्हाण को अपने प्रत्याशी के तौर पर पेश करने का फैसला कर लिया है. उधर, सत्तापक्ष की तरफ से जनता दल युनाइटेड (जदयू) के सांसद हरिवंश नारायण सिंह के नाम पर विचार किया जा रहा है. दिलचस्प बात यह है कि इस चुनाव में सत्तारूढ़ और विपक्ष दोनों के पास अपने प्रत्याशी को जिताने के लिए पर्याप्त बहुमत नहीं है, ऐसे में इस चुनाव में बीजू जनता दल के वोटों की अहमियत बढ़ गई है.


‘भाजपा और आरएसएस की विचारधारा से लगता है कि देश का नेतृत्व सिर्फ पुरुष ही कर सकते हैं.’

— राहुल गांधी, कांग्रेस के अध्यक्ष

राहुल गांधी ने यह बात मंगलवार को दिल्ली में एक कार्यक्रम के दौरान कही. उनके मुताबिक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) में महिलाओं के लिए कोई जगह नहीं है और भाजपा भी इसी विचारधारा पर चल रही है. उन्होंने आगे कहा कि महिला सशक्तिकरण की बात करने वाली भाजपा महिलाओं को आगे बढ़ाने के लिए कुछ नहीं कर रही. अपनी पार्टी की पूर्व मुख्यमंत्री का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि शीला दीक्षित ने अपने कार्यकाल के दौरान दिल्ली का कायापलट कर दिया था. कांग्रेस अध्यक्ष के इस बयान पर पलटवार करते हुए केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि राहुल गांधी की जानकारी अधूरी है. उन्हें पता होना चाहिए कि लोकसभा अध्यक्ष के अलावा भारत की विदेश और रक्षा मंत्री महिलाएं ही हैं.


‘जिला अधीक्षक बदलने से प्रदेश की महिलाएं व बच्चियां सुरक्षित नहीं होंगी.’

— अखिलेश यादव, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री

अखिलेश यादव का यह बयान पूर्वी उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले में स्थित एक नारी संरक्षण गृह में यौन शोषण का मामला सामने आने पर आया है. इसके साथ ही उन्होंने इस मामले के साथ प्रत्यक्ष व परोक्ष रूप से जुड़े लोगों के नामों को उजागर करने की मांग भी की है. उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती भी इस मुद्दे को लेकर प्रदेश सरकार की निंदा कर चुकी हैं. इस दौरान राज्य की कैबिनेट मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने विपक्षी दलों से महिलाओं के यौन शोषण के मुद्दे पर राजनीति न करने की अपील की है.


‘राष्ट्रीय टीम के चयन में खिलाड़ी की उम्र नहीं बल्कि उसका प्रदर्शन देखा जाना चाहिए.’

— सचिन तेंदुलकर, भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान

सचिन तेंदुलकर का यह बयान इंग्लैंड के 20 वर्षीय तेज गेंदबाज सैम करन के समर्थन में आया है. भारत और इंग्लैंड के बीच खेली जा रही पांच टेस्ट मैचों की सीरीज के पहले मुकाबले की पहली पारी में सैम करन ने भारत के चार विकेट झटके थे. इसके अलावा उन्होंने बल्ले से शानदार प्रदर्शन करते हुए अर्ध शतक भी जमाया था. उनके इसी प्रदर्शन के मद्देनजर सचिन तेंदुलकर के यह बात कही है. सचिन तेंदुलकर के मुताबिक उन्होंने खुद 16 साल की उम्र में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया था जिससे उन्हें और बेहतरी से इस खेल की बारीकियां सीखने समझने का मौका मिला.