मोबाइल, लैपटॉप या डेस्कटॉप कंप्यूटर पर पोर्न वीडियो देखना किसी को ‘सेक्सटॉर्शन’ का शिकार बना सकता है. कंप्यूटर हैकर्स किसी कंप्यूटर की ब्राउजिंग हिस्ट्री (गूगल जैसे इंटरनेट सर्च इंजनों द्वारा सेव की गईं फाइलें) में जाकर पता लगा सकते हैं कि कोई व्यक्ति कैसी और कितनी पोर्न फिल्में या वीडियो देखता है. इसके बाद वे उस व्यक्ति को ब्लैकमेल कर जबरन पैसे वसूलते हैं. इसी को सेक्सटॉर्शन कहते है. डेक्कन क्रॉनिकल की खबर के मुताबिक हैदराबाद में ऐसे छह मामले सामने आए हैं.

इनमें से एक मामला पूर्व बॉलीवुड अभिनेत्री दीप्ति नवल से भी जुड़ा है. उन्होंने पुलिस को बताया कि उन्हें अनजान लोगों की तरफ से एक ईमेल आया जिसमें धमकी दी गई थी अगर उन्होंने पैसे नहीं दिए तो उनकी ब्राउजिंग हिस्ट्री सार्वजनिक कर दी जाएगी. धमकी देने वाले ने कैश के बजाय बिटकॉइन के जरिए वसूली की रकम देने को कहा.

हैदराबाद पुलिस के मुताबिक पिछले महीने ऐसे छह मामले सामने आए. पीड़ितों में दो महिलाएं और एक नाबालिग भी शामिल हैं. उनसे भी बिटकॉइन की मांग की गई थी. मेल करने वालों ने उन्हें 24 घंटे के अंदर भुगतान करने को कहा था. पीड़ित मेल को गंभीरता से लें, इसलिए हैकरों ने उनके ईमेल आईडी, पासवर्ड और डेटा भी चुरा लिए थे.

पुलिस ने बताया कि पीड़ितों को भेजे गए मेल एक जैसे थे. सभी से 0.74 बिटकॉइन की मांग की गई थी जिसकी कीमत 3.9 लाख रुपये है. एक अधिकारी ने बताया, ‘ऐसा लगता है जैसे ही यूजर्स पोर्न साइटों पर गए, तभी मैलवेयर (कंप्यूटर सिस्टम में घुस कर उसे नुकसान पहुंचाने वाला सॉफ्टवेयर) के जरिए डिवाइस की जानकारी हासिल कर ली गई. इससे ईमेल आईडी और पासवर्ड का पता चल गया. मोबाइल एप्लिकेशन के लिए हर यूजर अपने ईमेल आईडी और पासवर्ड का इस्तेमाल करता है.’ हालांकि अधिकारी ने बताया कि अभी तक किसी भी पीड़ित ने ब्लैकमेलरों को भुगतान नहीं किया है. यह भी बताया गया कि हो सकता है ये हैकर नाइजीरिया से काम कर रहे हों.