ब्रिटिश एयरवेज की एक फ्लाइट में भारतीय यात्रियों से दुर्व्यवहार किए जाने का मामला सामने आया है. घटना 23 जुलाई की बताई जा रही है. उस दिन एक भारतीय परिवार लंदन जाने के लिए ब्रिटिश एयरवेज के विमान नंबर बीए-8495 में चढ़ा था. उनके साथ एक तीन साल का बच्चा भी था जो उड़ान के समय रोने लगा. परिवार का आरोप है कि इसलिए चालक दल ने उनसे नस्लीय व्यवहार करते हुए उन्हें और कुछ अन्य भारतीयों को विमान से उतार दिया.

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक बच्चे के पिता 1984 के भारतीय इंजीनियरिंग सेवा अधिकारी हैं. फिलहाल उनकी नियुक्ति सड़क परिवहन मंत्रालय में है. उन्होंने इस घटना की नागरिक विमानन मंत्री सुरेश प्रभु से शिकायत की है. केंद्रीय मंत्री को लिखे पत्र में उन्होंने बताया है कि जब उनकी पत्नी बच्चे को चुप कराने की कोशिश कर रही थी तो चालक दल का एक सदस्य उन पर चिल्लाने लगा. अधिकारी ने लिखा, ‘उसने मेरे बेटे को डांटा जिससे वह डर गया और रोने लगा.’ पत्र में दावा किया गया है कि बाद में चालक दल का वही सदस्य दोबारा आया और बच्चे पर चिल्लाते हुए बोला कि अगर वह चुप नहीं हुआ तो उसे विमान से बाहर फेंक दिया जाएगा.

इसके बाद विमान को वापस हवाई अड्डे लाया गया और परिवार समेत कुछ अन्य भारतीयों को भी उतार दिया गया. अधिकारी ने बताया कि उनकी सीट के पीछे कुछ और भारतीय बैठे हुए थे. उन्होंने बच्चे को बिस्किट देकर चुप कराने की कोशिश की थी. अधिकारी के मुताबिक जब विमान को वापस रनवे पर उतारा गया तो पीड़ित परिवार के साथ उन भारतीयों को भी विमान से निकाल दिया गया.

उधर, ब्रिटिश एयरवेज ने इस घटना की जांच के आदेश दे दिए हैं. एयरलाइन के प्रवक्ता ने कहा, ‘हम इस तरह के मामलों को गंभीरता से लेते हैं और किसी भी तरह के भेदभाव को बर्दाश्त नहीं करते. हमने जांच शुरू कर दी है और हम ग्राहक से सीधे संपर्क में हैं.’