उत्तर प्रदेश के देवरिया स्थित बालिका संरक्षण गृह में देह व्यापार का मामला सामने आने के बाद प्रशासन लगातार ऐसे आश्रय गृहों पर छापेमारी कर रहा है. ऐसी ही कार्रवाई के तहत प्रतापगढ़ के जिलाधिकारी ने अपनी टीम के साथ दो आश्रय गृहों का औचक निरीक्षण किया. इस दौरान यहां 26 महिलाएं लापता मिलीं. पीटीआई ने प्रतापगढ़ के जिलाधिकारी शंभू कुमार के हवाले से बताया कि अष्टभुजा नगर के जागृति आश्रय गृह के निरीक्षण के दौरान 15 में से सिर्फ एक महिला मौके पर मिली. यह आश्रय गृह भाजपा की महिला मोर्चा की पूर्व जिलाध्यक्ष द्वारा संचालित किया जा रहा है. उधर, अचलपुर में स्थित एक अन्य आश्रय गृह में जांच के दौरान 15 में से 12 महिलाएं लापता मिलीं. दोनों मामलों में जांच के आदेश दे दिए गए हैं.

बिहार के मुजफ्फपुर में बालिका गृह कांड के सामने आने के बाद आश्रय गृहों में अनियमितताओं का मसला लगातार चर्चा में बना हुआ है. उत्तर प्रदेश सरकार ने सभी 75 जिलों के अधिकारियों को अपने यहां चल रहे आश्रय गृहों की जांच के आदेश दिए हैं. इससे पहले प्रदेश सरकार में महिला एवं बाल कल्याण मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने राज्य के बालिका और नारी संरक्षण गृहों की अनियमितताओं के लिए प्रदेश की पूर्व सरकार को जिम्मेदार ठहराया था.