साल 2050 तक भारत में बुजुर्गों की संख्या 34 करोड़ से ज्यादा होगी. केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल ने शुक्रवार को संसद को यह जानकारी दी. उन्होंने यह भी कहा कि सरकार ने बुजुर्गों के स्वास्थ्य की देखभाल के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रम शुरू किया है. केंद्रीय मंत्री के मुताबिक इस कार्यक्रम का उद्देश्य बुजुर्गों को सुलभ, किफायती, उच्च गुणवत्ता वाली दीर्घकालिक और समर्पित स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया करवाना है.

एनडीटीवी में प्रकाशित खबर के मुताबिक अनुप्रिया पटेल ने संसद को बताया, ‘सरकार ने देश के सभी राज्यों में बढ़ती उम्र के साथ होने वाली बीमारियों का डेटा एकत्र करने के लिए अध्ययन भी शुरू किया है.’ इसके साथ ही उन्होंने कहा, ‘आने वाले समय में दिल्ली स्थित एम्स और चेन्नई के मद्रास मेडिकल कॉलेज को बुजुर्गों के स्वास्थ्य के देखभाल के लिए राष्ट्रीय केंद्र के रूप में विकसित किया जाएगा.’ उन्होंने आशा जताई कि बुजुर्गों की देखभाल में ये दोनों उत्कृष्ट साबित होंगे.