अपने विवादित बयानों की वजह से चर्चा में रहने वाले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राजस्थान के रामगढ़ के विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने एक बार फिर ऐसा ही एक बयान दिया है. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक शनिवार को उन्होंने कहा, ‘पंडित जवाहर लाल नेहरू पंडित नहीं थे. वे गाय और सुअर का मांस खाते थे. सुअर को मुसलमानों में नापाक बताया गया है और गाय को हिंदुओं में पवित्र माना गया है. कांग्रेस ने उनके नाम के साथ पंडित लगाकर ब्राह्मणों को अपनी पार्टी के साथ जोड़ा था.’

भाजपा विधायक ने पंडित नेहरू को लेकर 2016 में भी एक विवादित बयान दिया था. तब उन्होंने कश्मीर समस्या को जवाहर लाल नेहरू की देन बताते हुए कहा था कि कश्मीर के लोगों को भारत दामाद की तरह खिला रहा है इसके बावजूद वहां पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगते हैं. इससे पहले इसी शुक्रवार को कांग्रेस के मौजूदा अध्यक्ष राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए उन्होंने कांग्रेसी नेताओं से सवाल किया था कि भूतपूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के साथ राहुल गांधी कितनी बार मंदिरों में गए हैं?

इसके अलावा पिछले दिनों गोतस्करी के मामलों पर उन्होंने कहा था कि गोरक्षक गोतस्करों को पकड़ने के बाद उन्हें दो-चार थप्पड़ लगा दें और उन्हें फिर पेड़ से बांधकर इसकी सूचना पुलिस को दें. ज्ञानदेव आहूजा की तरफ से जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय को लेकर भी विवादित बयान दिया जा चुका है.