भारतीय शराब कारोबारी विजय माल्या की ऐशबाज़ी के किस्से तो सभी ने सुने होंगे. लेकिन यह ऐशो-आराम किस स्तर का है इसका एक नया पहलू सामने आया है. मीडिया में आई रिपोर्ट्स से ख़ुलासा हुआ है कि विजय माल्या लंदन की जिस कोठी में रह रहे हैं उसके टॉयलेट की सीट पर भी सोना चढ़ा हुआ है. यहां ऐशो-आराम की अन्य अतिअाधुनिक सुविधाएं भी मौज़ूद हैं.

ख़बरों के मुताबिक द इकॉनॉमिक टाइम्स ने लेखक जेम्स क्रैबट्री के हवाले से यह ख़बर दी है. जेम्स सिंगापुर के ली कुआन यू स्कूल (पोस्टग्रेजुएट संस्थान) के प्रोफेसर हैं. वे पिछले हफ़्ते जब मुंबई आए थे तब एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने यह ख़ुलासा किया. उन्होंने बताया कि एक बार उन्हें विजय माल्या की लंदन स्थित कोठी में जाने का मौका मिला था. उसी दौरान उन्होंने वहां की चौंधिया देने वाली सुविधाओं को नज़दीक से देखा था. माल्या की यह कोठी लंदन के रीगेंट पार्क में स्थित है.

ग़ौरतलब है कि विजय माल्या पर भारतीय बैंकों का 9,000 करोड़ रुपए से ज़्यादा का कर्ज़ है. इसे उन्होंने अब तक चुकाया नहीं है. इसे चुकाने से बचने के लिए वे भारत से भागकर लंदन में रह रहे हैं. वहां भी उन्हें लगातार कानूनी कार्यवाही का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि भारतीय जांच एजेंसियां उनका ब्रिटेन से प्रत्यर्पण कराने के लिए कानूनी लड़ाई लड़ रही हैं. ताकि उन्हें भारत लाकर यहां उनके ख़िलाफ़ मुक़दमा चलाया जा सके. उन्हें उनके अपराध के लिए जेल में डाला जा सके.

वैसे विजय माल्या के ऐशो-आराम के इस तरह के किस्से नए नहीं हैं. वे फॉर्मूला वन, क्रिकेट (आईपीएल की राॅयल चैलेंजर्स बेंगलुरु) और फुटबॉल की टीमों के मालिक हैं. वे दुर्लभ चीजें ख़रीदने के भी शौकीन हैं. मसलन- उन्होंने नीलामी के दौरान महात्मा गांधी का चश्मा और टीपू सुल्तान की तलवार भी ख़रीदी है.