भारतीय मूल के प्रसिद्ध लेखक वीएस नॉयपाल का रविवार तड़के निधन हो गया. 85 वर्षीय नॉयपाल ने लंदन स्थित अपने अावास पर अंतिम सांस ली. नॉयपाल को 2001 में साहित्य के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. ‘ए बेंड इन द रिवर’ और ‘अ हाउस फॉर मिस्टर विश्वास’ उनकी विश्व प्रसिद्ध कृतियां हैं.

बीबीसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक नॉयपाल की पत्नी नादिरा नॉयपाल ने मीडिया को उनके निधन की जानकारी दी है. नादिरा ने बताया, ‘नॉयपाल ने रचनात्मकता से भरी जिंदगी जी. अाखिरी वक्त में तमाम लोग, जिन्हें वे प्यार करते थे उनके साथ थे.’

नॉयपाल का जन्म त्रिनिदाद में 1932 में हुआ था. उनके पूर्वज भारत से जाकर वहीं बस गए थे. उन्होंने अपनी शिक्षा ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से पूरी की और फिर इंग्लैंड मेें ही बस गए. 2001 में मिले नोबेल पुरस्कार से पहले 1971 में उन्हें ‘बुकर प्राइज’ भी मिला था. 2008 में टाइम पत्रिका ने 50 महान ब्रिटिश लेखकों की सूची में वीएस नॉयपाल को सातवां स्थान दिया था. उनकी पहली किताब ‘द मिस्टिक मैसर’ 1951 में आई थी.