उत्तर प्रदेश के बागपत जिले में कांवड़ यात्रा पर गए एक मुस्लिम व्यक्ति को उसके समाज के लोगों ने मस्जिद में नमाज पढ़ने से रोक दिया. बागपत के रंछाड गांव के रहने वाले बाबू खान ने शनिवार को पुलिस से इसकी शिकायत की है.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक अपनी शिकायत में बाबू खान ने कहा है, ‘मैं पिछले दिनों कांवड़ लेकर हरिद्वार जलाभिषेक करने गया था. इसके बाद शुक्रवार को जब मैं गांव की एक मस्जिद में नमाज पढ़ने गया तो मुझे नमाज पढ़ने से रोक दिया गया. मस्जिद में कुछ लोगों ने मुझसे बदसलूकी की और मुझे वहां से निकाल दिया.’

हालांकि, इस मामले में आरोपित पक्ष ने बाबू खान पर झूठ बोलने का आरोप लगाया है. उनका कहना है कि बाबू खान शुक्रवार को मस्जिद में शराब पीकर पहुंचा था जिस वजह से उसे मस्जिद में जाने से रोका गया था.

स्थानीय कोतवाली के एसओ देवेंद्र बिष्ट ने घटना की जानकारी देते हुए बताया, ‘पुलिस मामले की जांच कर रही है. बाबू खान की तहरीर पर तीन लोगों को शांति भांग करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है, जबकि अभी एक व्यक्ति फरार है.’ हालांकि, बिष्ट का यह भी कहना है कि वे क्षेत्र के प्रमुख नागरिकों के साथ मिलकर इस मामले को बातचीत के जरिए सुलझाने की कोशिश कर रहे हैं.

इस बीच इस मामले को लेकर कुछ हिन्दू संगठन बाबू खान के साथ आ गए हैं. बागपत के हिंदू जागरण मंच के जिला अध्यक्ष दीपक बनमोली का कहना है, ‘हमारा मंच बाबू खान के साथ है और यदि कोई उसे परेशान करता है तो हम इसे बर्दाश्त नहीं करेंगे.’