भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम चौधरी ने कहा है कि आगामी आम चुनाव के बाद नेशनल रजिस्टर आॅफ सिटिजंस (एनआरसी) को पूरे देश में लागू किया जाएगा. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक ओम चौधरी ने यह बात सोमवार को राजस्थान के झुंझुनू में कही. ओम माथुर का कहना था ‘आज देश का कोई ऐसा शहर बाकी नहीं है जो बांग्लादेशी घुसपैठियों की समस्या का सामना न कर रहा हो.’ उनका यह भी कहना है कि दूसरे देशों के लोगों के लिए भारत को ‘धर्मशाला’ नहीं बनने दिया जा सकता.

एनआरसी को लेकर इस दौरान ओम माथुर ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना भी साधा. उन्होंने कहा कि एनआरसी की पहल कांग्रेस के ही भूतपूर्व नेताओं इंदिरा गांधी और राजीव गांधी ने की थी, पर कांग्रेस के नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) की सरकार के दस साल के शासन में राहुल गांधी इसे क्रियान्वित नहीं करा सके. उन्होंने आगे कहा कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार भाजपा ने असम से इसकी शुरुआत कर दी है.

भाजपा उपाध्यक्ष के इस बयान से पहले 30 जुलाई को असम में एनआरसी की दूसरी सूची जारी की गई थी. इस सूची में 40 लाख लोगों के नाम छूट गए थे. यानी उन्हें भारतीय नागरिक नहीं माना गया है. इस मुद्दे को ‘राजनीति से प्रेरित’ कदम बताते हुए विपक्षी दलों ने सरकार पर हमलावर रुख बना रखा है. हालांकि केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरफ से भी स्पष्ट किया जा चुका है कि एनआरसी से किसी भी भारतीय नागरिक को छूटने नहीं दिया जाएगा. इस बीच असम में एनआरसी की सूची में अपना नाम जुड़वाने को लेकर आपत्तियों और सुझाव की प्रक्रिया भी शुरू की जा चुकी है.