मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में इस साल के अंत तक विधानसभा चुनाव कराए जाने हैं. आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर सी -वोटर और एबीपी न्यूज की तरफ से कराए गए एक सर्वे के मुताबिक इन तीनों राज्यों से भाजपा की सत्ता छिन सकती है. इसके साथ ही इन तीनों राज्यों में कांग्रेस के पूर्ण बहुमत के साथ वापसी करने का अनुमान भी लगाया गया है.

सर्वे के मुताबिक 200 सीटों वाली राजस्थान विधानसभा में कांग्रेस के खाते में 130 सीटें आने जबकि भाजपा के महज 57 सीटों पर सिमटने का अनुमान है. साल 2013 के ​राज्य विधानसभा चुनाव में भाजपा ने यहां 163 सीटों पर कब्जा जमाया था. तब कांग्रेस के खाते में सिर्फ 21 सीटें ही आई थीं. पिछले विधानसभा चुनाव के मुकाबले के इस बार राजस्थान में कांग्रेस के वोट प्रतिशत में भी बड़ा इजाफा होने की उम्मीद है. इस बार के चुनाव में कांग्रेस के पक्ष में 51 प्रतिशत वोट पड़ सकते हैं तो वहीं भाजपा के हिस्से में सिर्फ 36.8 फीसदी वोट आने की संभावना है.

मध्य प्रदेश में भी कांग्रेस के अपने दम पर बहुमत हासिल कर लेने की संभावना जताई गई है. 230 सीटों वाली मध्य प्रदेश विधानसभा में कांग्रेस के खाते में 117 जबकि भाजपा के हिस्से में 106 सीटें जाती हुई दिखाई पड़ रही हैं. वोट प्रतिशत के मामले में देश के इन दोनों बड़े दलों में कांटे की टक्कर होती बताई गई है. कांग्रेस को 41.7 प्रतिशत तो भाजपा को 40.1 फीसदी वोट मिलने का अनुमान है.

90 विधानसभा सीटों वाले राज्य छत्तीसगढ़ पर नजर डालें तो कांग्रेस के खाते में 54 सीटें जाने का अनुमान लगाया गया है. साथ ही आगामी विधानसभा चुनाव के दौरान पार्टी का वोट प्रतिशत 40 प्रतिशत तक होने की उम्मीद है. उधर, भाजपा का वोट प्रतिशत 38.8 फीसदी रहते हुए इसे 33 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है.

दिलचस्प बात यह है कि सर्वे में हिस्सा लेने वाले लोगों से 2019 के आम चुनाव के बारे में राय मांगी गई तो इन्होंने नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली मौजूदा सरकार को एक बार फिर मौका दिए जाने की बात की. यानी इन तीनों राज्यों के लोग राज्य में तो सत्ता परिवर्तन की चाह रखते हैं लेकिन केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार की वापसी भी चाहते हैं.