ब्रिटेन की राजधानी लंदन में आतंकी हमला हुआ है. ख़बरों के मुताबिक एक व्यक्ति ने तेज रफ़्तार से कार दौड़ाते पहले कई साइकिल सवारों और पैदल चलने वालों टक्कर मारी. फिर उसे संसद के बाहर लगे बैरीकेड्स में भिड़ा दिया. इस घटना में अब तक तीन लोगों के घायल होने की ख़बर है. बीते साल मार्च के बाद से यहां इस तरह का यह दूसरा आतंकी हमला है.

ख़बरों के अनुसार हमला करने वाले को ग़िरफ़्तार कर लिया गया है. उसकी उम्र 20 साल के आसपास बताई जा रही है. स्कॉटलैंड यार्ड पुलिस की आतंक निरोधी इकाई ने मामले की जांच शुरू कर दी है. इस इकाई के राष्ट्रीय प्रमुख भारतीय मूल के अफसर नील बासू ने बताया, ‘संदिग्ध हमलावर पुलिस के साथ सहयोग नहीं कर रहा है. इसलिए उसकी अब तक पहचान भी नहीं हो पाई है. उन्होंने बताया, ‘अभी हमारी प्राथमिकता उसकी पहचान करने की है. साथ ही यह पता लगाना है कि उसने ऐसा क्यों किया.’

संदिग्ध को दक्षिण लंदन के थाने में रखा गया है. बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक वह संभवत: बर्मिंघम का रहने वाला है. पुलिस इस मामले को ज़्यादा गंभीरता से ले रही है क्योंकि संदिग्ध हमलावार का कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं है. उस पर पुलिस, सुरक्षा या ख़ुफ़िया बलों को पहले से कोई शक़ भी नहीं था और न उस पर नज़ रखी जा रह थी. चिंता की एक और बात यह है कि इस हमले में बारे में ख़ुफ़िया एजेंसियों पहले से भनक तक नहीं लगने पाई. संदिग्ध और उसकी कार से कोई हथियार भी बरामद नहीं हुआ है.

ग़ौरतलब है कि बीते कुछ समय से लंदन लगातार आतंकियों के निशाने पर बना हुआ है. मार्च-2017 में यहां इसी तरह का हमला खालिद मसूद नाम के हमलावर ने किया था. उसने पांच वेस्टमिंस्टर ब्रिज़ पर कई लाेगों को कुचलते ही अपनी कार संसद के गेट पर भिड़ा दी थी. उस हमले में पांच लोगों की मौत हो गई थी. इसके बाद बीते साल ही मई में मैनचेस्टर में एक संगीत समारोह के दौरान हुए आतंकी हमले में 23 लोग मारे गए थे. फिर जून-2017 एक आतंकी ने लंदन ब्रिज़ पर आठ लोगों को धारदार हथियार से हमला कर मार दिया था.