अमेरिका में पेन्सिलवेनिया प्रांत के कैथोलिक चर्च में बच्चों के यौन शोषण से जुड़ा बड़ा खुलासा हुआ है. पेन्सिलवेनिया के सुप्रीम कोर्ट की ओर से जारी एक रिपोर्ट के अनुसार बीते 70 साल में चर्च के 300 से अधिक पादरियों ने 1,000 से अधिक बच्चों का यौन शोषण किया है. राज्य के एटॉर्नी जनरल (महाधिवक्ता) जोश शैपिरो के मुताबिक 1,000 से ज़्यादा पीड़ितों की तो पहचान हुई है, लेकिन जूरी को यकीन है कि पीड़ितों की संख्या इससे भी और अधिक हो सकती है. ख़बरों के अनुसार में अमेरिकी चर्च में यौन उत्पीड़न की शिकायतों से संबंधित यह पहली विस्तृत जांच है. इसकी अगुवाई शैपिरो ने ही की थी. यह जांच करीब डेढ़ साल में हो पाई है. इस दौरान पेन्सिलवेनिया के आठ में छह डायोसिस (प्रशासनिक इकाई) - हैरिसबर्ग, पिट्सबर्ग, एलेन्टाउन, स्क्रैन्टन, ऐरी और ग्रीन्सबर्ग की पड़ताल की गई है.

जांच के बाद 1,400 पन्नों की रिपोर्ट तैयार की गई. इसमें बताया कि पादरियों ने बच्चों का यौन शोषण तो किया ही, उनके शीर्ष अधिकारियों ने इन करतूतों पर लगातार पर्दा भी डाला. यहां तक कि वेटिकन (कैथोलिक चर्च का मुख्यालय) ने भी इस पर पर्दा डालने का ही काम किया. इसका नतीज़ा यह हुआ कि आज ऐसे किसी भी आपराधिक कृत्य के लिए आरोपितों पर मुक़दमा चलाना लगभग नामुमकिन हो गया है क्योंकि इनमें से ज़्यादातर मामले पुराने पड़ चुके हैं.