मलेशिया की एक अदालत ने अपने एक अहम फैसले में कहा है कि उत्तर कोरियाई तानाशाह किम जोंग उन के सौतेले भाई किम जोंग नम की हत्या के मामले में आगे की सुनवाई के लिये पर्याप्त सबूत मौजूद हैं. इसके साथ ही अदालत ने आरोपितों को अपने बचाव में सबूत पेश करने का आदेश दिया है. पीटीआई के मुताबिक कुआलालंपुर के शाह आलम हाईकोर्ट के जज आजमी अरिफिन ने कहा कि पहली नजर में आरोपितों पर मामला बनता है, इसलिए उन्हें सुनवाई का सामना करना होगा. इससे पहले बचाव पक्ष ने उम्मीद जताई थी कि अदालत में दोनों महिलाएं बेगुनाह साबित होंगी और उन्हें आगे की सुनवाई का सामना नहीं करना पड़ेगा.

पिछले साल फरवरी में कुआलालंपुर एयरपोर्ट पर किम जोंग-नम की रहस्यमय परिस्थितियों में मौत हो गई थी. मलेशियाई पुलिस को संदेह है कि फ्लाइट के लिए इंतज़ार कर रहे किम जोंग-नम को ज़हर दिया गया था. इस मामले में इंडोनेशिया की सीती ऐशयाह और वियतनाम की डोआन थी हुंआंग आरोपित हैं. नम की हत्या के बाद मलेशिया और उत्तर कोरिया के रिश्तों में काफी तनाव आ गया था.