‘आज मैंने अपना सबसे नजदीकी दोस्त खो दिया, अटलजी की कमी बहुत खलेगी.’  

— लालकृष्ण आडवाणी, भाजपा के वरिष्ठ नेता

लालकृष्ण आडवाणी का यह बयान भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर आया है. वाजपेयी के साथ 65 साल पुरानी अपनी दोस्ती को याद करते हुए भावुक अंदाज में उन्होंने कहा है कि उन दोनों का जुड़ाव बतौर संघ प्रचारक हुआ था. इसके बाद जनसंघ के गठन, आपातकाल के भयावह दौर से लेकर भारतीय जनता पार्टी को आगे ले जाने के अनुभवों को उन दोनों ने एक साथ जिया था. अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में गृह मंत्री के तौर पर काम करने के अनुभव को आडवाणी ने अपना सौभाग्य बताया है.


‘हर कश्मीरी महात्मा गांधी के सपनों वाले धर्मनिरपेक्ष भारत में रहना चाहता है.’  

— फारुक़ अब्दुल्ला, जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री

फारुक़ अब्दुल्ला ने यह बात गुरुवार को दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कही. उनके मुताबिक, ‘हम (कश्मीरी) कोई आतंकवादी नहीं हैं, न ही भारत से अलग होना चाहते हैं.’ उन्होंने कहा कि कश्मीरियों की सिर्फ इतनी इच्छा है कि देश में हर धर्म और सम्प्रदाय के व्यक्ति के साथ एक समान बर्ताव हो, फिर चाहे वह हिंदू हो, मुसलमान, सिख या ईसाई. इस दौरान संविधान के अनुच्छेद 35ए के मुद्दे को लेकर पूछे गए एक सवाल पर उन्होंने ​फिर दोहराया कि इसके लिए वे मरते दम तक लड़ते रहेंगे. 35ए की व्यवस्था के जरिये कश्मीर के लोगों को कई तरह के विशेषाधिकार हासिल होते हैं.


‘केरल में राहत व बचाव कार्यों के लिए एनडीआरएफ की अतिरिक्त टीमें भेज दी गई हैं.’  

— राजनाथ सिंह, केंद्रीय गृह मंत्री

राजनाथ सिंह का यह बयान केरल में हो रही मूसलाधार बारिश और बाढ़ के हालात को लेकर आया है. गृह मंत्री का यह भी कहना है कि केरल की विषम परिस्थितियों पर वे राज्य के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन के साथ लगातार संपर्क में हैं. बीते आठ अगस्त के बाद से हुई भारी बारिश, बाढ़ और भूस्खलन से केरल में अब तक 73 जानें जा चुकी हैं. बारिश और बाढ़ में कई लोग अब भी फंसे हुए हैं. इसकी वजह से राज्य के हजारों लोगों ने अस्थायी शिविरों में शरण ले रखी है.


‘सोने की चिड़िया को पिंजरे में कैद करके भाजपा इसे लूटना चाहती है.’  

— राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष

राहुल गांधी ने यह बात गुरुवार को आयोजित ‘साझा विरासत बचाओ सम्मेलन’ में अपने संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर निशाना साधते हुए कही. राहुल गांधी ने कहा, ‘अंग्रेज भारत को सोने की चिड़िया कहते थे. आज भाजपा के लोग भारत को सोने की चिड़िया मानकर इसे लूटना चाहते हैं इसीलिए केंद्र सरकार सिर्फ 15-20 उद्योगपतियों की भलाई के लिए काम कर रही है.’ इस दौरान राहुल गांधी ने यह भी कहा कि कांग्रेस की विचारधारा भाजपा से उलट है. कांग्रेस इस देश को ‘गंगा’ की तरह मानती है, जो सबकी है और सबको एक साथ लेकर आगे बढ़ना चाहती है.