पोप फ्रांसिस ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से बीती एक सदी में आई सबसे भयानक आपदा से परेशान केरल की मदद करने की अपील की है. वेटिकन न्यूज के मुताबिक रविवार को पोप फ्रांसिस ने बाढ़ से पीड़ित लोगों के लिए प्रार्थना भी की. इस दौरान उन्होंने कहा, ‘केरल के लोगों पर भारी बारिश की मार पड़ी है. बाढ़ और भूस्खलन के चलते बड़ी संख्या में लोग मारे गए हैं. कई लोग लापता हैं. घरों और खेतों को बड़ा नुकसान पहुंचा है.’ इसके साथ ही पोप ने उम्मीद जताई कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय एकजुट होकर केरल के लोगों की मदद करेगा.

उधर, अधिकारियों के हवाले से खबर है कि केरल में लगातार हो रही भारी बारिश अब थम रही है. हालांकि राज्य को जो नुकसान हुआ है उससे उबरने में लोगों और सरकार को काफी समय लगेगा. हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक रविवार को भी बचावकार्य के दौरान खासी दिक्कतें हुईं. भूस्खलन के चलते केरल के कुछ इलाके अलग-थलग पड़ गए हैं. इस वजह से बचाव कार्य के तहत वहां पहुंचना मुश्किल हो गया है. नदियों का बहाव भी तेज बना हुआ है. वहीं, राज्य सरकार जानो-माल के नुकसान का हिसाब लगाने में लगी हुई है. वह पीड़ितों के पुनर्वास के लिए लंबी योजना शुरू करने जा रही है. मुख्यमंत्री पी विजयन ने कहा कि आखिरी व्यक्ति को बचाए जाने तक बचाव अभियान जारी रहेगा.

उधर, दिल्ली में इस बाबत राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन समिति की चौथी बैठक हुई. इसमें केंद्रीय कैबिनेट के सचिव पीके सिन्हा ने कहा कि पीड़ितों के लिए खाना, पानी और दवाइयों के इंतजाम के साथ हालात सामान्य करने के लिए बिजली, ईंधन, टेलीकॉम और परिवहन जैसी जरूरी सेवाओं को बहाल करने पर ध्यान दिया जाए. बैठक में केरल के मुख्य सचिव ने भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए भाग लिया. उन्होंने बताया कि स्थिति में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है और मौसम विभाग ने सोमवार से बारिश में कमी की भविष्यवाणी की है.

बता दें कि बीती आठ अगस्त से केरल में असामान्य रूप से भारी बारिश का सिलसिला शुरू हुआ था. इसके चलते राज्य को सौ सालों की सबसे भयानक बाढ़ का सामना करना पड़ रहा है. सरकार द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक इस आपदा में अभी तक 239 लोग मारे गए हैं. वहीं, सात लाख लोगों को राहत शिविरों में रखा गया है.