आंध्र प्रदेश में एक सरकारी फैसले को लेकर मीडिया और सोशल मीडिया पर मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू और तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) की उनकी सरकार को कटघरे में खड़ा किया जा रहा है. द न्यूज मिनट की एक खबर के मुताबिक पैसे की तंगी से जूझ रही प्रदेश सरकार ने अपने वित्त मंत्री यनमाला रामकृष्णुडू के रूट कैनाल ट्रीटमेंट (दांत भरवाई) के लिए 2.88 रुपये का भुगतान किया है. सरकार के आदेश पत्र के अनुसार रामकृष्णुडू का इलाज 12 अप्रैल को सिंगापुर के अजूर डेंटल अस्पताल में हुआ था.

सोशल मीडिया पर कई लोगों ने इस सरकारी आदेश की प्रति शेयर की है और आरोप लगाया है कि राज्य सरकार करदाताओं का पैसा लापरवाही से खर्च कर रही है. वहीं ट्विटर पर एक यूजर ने टिप्पणी की है, ‘चंद्रबाबू नायडू कहते हैं कि केंद्र सरकार आंध्र प्रदेश के विकास के लिए पैसा नहीं दे रही, लेकिन आप उनके एक मंत्री के रूट कैनाल ट्रीटमेंट के लिए सरकार द्वारा चुकाए गए बिल को तो जरा देखिए... ’ साथ ही यहां सवाल उठाया जा रहा है कि मंत्री का इलाज सिंगापुर के बजाय आंध्र प्रदेश में ही क्यों नहीं कराया गया.

बवाल बढ़ता देखकर टीडीपी की तरफ से इस मसले पर सफाई भी आई है. पार्टी प्रवक्ता लंगा दिनाकर ने इस मामले को प्रोपेगैंडा करार दिया है. उनके मुताबिक रामकृष्णुडू अपना इलाज हैदराबाद में करवा रहे थे लेकिन सरकारी काम की वजह से उन्हें इलाज बीच में छोड़कर सिंगापुर जाना पड़ा. फिर यहां उन्हें अचानक दांतों में दर्द उठा, जिसके बाद उन्हें स्थानीय अस्पताल में भर्ती होना पड़ा.