बीते सौ साल की सबसे भयानक बाढ़ के चलते इस मानसून के दौरान केरल में हजारों करोड़ रुपये की सरकारी और निजी संपत्ति का नुकसान हुआ है. इस हालत से उबरने के लिए केंद्र और अन्य राज्य सरकारों ने केरल को आर्थिक मदद दी है और इसके अलावा आम लोगों से लेकर जानी-मानी हस्तियां तक बाढ़ पीड़ित इस राज्य की मदद में सहभागी बनी हैं. इसी सिलसिले में एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हुई है. इसमें कुछ लोग केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन को मदद के रूप में 25 करोड़ रुपये का चेक भेंट करते देखे जा सकते हैं.

इस तस्वीर में भाजपा सांसद वी मुरलीधरन और केंद्रीय राज्य मंत्री अल्फ़ोंस कन्ननथनम भी दिख रहे हैं. श्रीकुमार श्रीधरननायर नाम के एक फ़ेसबुक यूज़र ने दावा किया है कि बाढ़ पीड़ितों के लिए भाजपा के सांसद और केंद्रीय राज्य मंत्री ने यह रक़म केरल के मुख्यमंत्री को दी है. उन्होंने यह पोस्ट मलयालम में की है. फ़ेसबुक और गूगल ट्रांसलेशन बताते हैं कि उन्होंने भाजपा सांसदों द्वारा पी विजयन को यह राशि दान करने की बात कही है. हालांकि यह सच नहीं है.

वायरल पोस्ट
वायरल पोस्ट

दरअसल यह तस्वीर बीते 21 अगस्त की है. श्रीधरननायर ने इसे शनिवार 26 अगस्त को शेयर किया था. उन्होंने जो दावा किया है उसके बारे में पता लगाने के दौरान फ़ेसबुक पर एक और पोस्ट मिलती है. यह पोस्ट भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड में बतौर मार्केटिंग एग्जिक्यूटिव काम करने वाले रंजीत राजेंद्रन पिल्लई की है. रंजीत ने 22 अगस्त को इस तस्वीर के साथ एक पोस्ट में लिखा था कि उनकी कंपनी ने मुख्यमंत्री पी विजयन को यह रक़म दान की है. वहीं, गूगल सर्च करने पर पता चलता है कि भाजपा सांसद और मंत्री ने केवल तेल कंपनियों की तरफ़ से यह चेक पी विजयन को सौंपा था.

भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन के मार्केटिंग एक्जिक्यूटिव रंजीत राजेंद्रन पिल्लाई की पोस्ट.
भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन के मार्केटिंग एक्जिक्यूटिव रंजीत राजेंद्रन पिल्लाई की पोस्ट.

वहीं, वी मुरलीधरन ने भी 21 अगस्त को ही बता दिया था कि उन्होंने ऑयल मार्केटिंग कंपनियों की तरफ़ से 25 करोड़ रुपये का चेक केरल के मुख्यमंत्री को दिया था. ट्विटर पर दी गई इस जानकारी में वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ज़िक्र करना नहीं भूले थे. उधर, हिंदुस्तान पेट्रोलियम ने भी चेक दिए जाने की जानकारी ट्विटर पर दी थी.