जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों द्वारा पांच पुलिसकर्मियों के परिवार के सदस्यों का अपहरण किए जाने का मामला सामने आया है. एनडीटीवी ने सूत्रों के हवाले से यह खबर दी है. इसके मुताबिक गुरुवार की शाम को आतंकवादियों ने दक्षिण कश्मीर में पुलिसकर्मियों के घरों पर धावा बोल दिया और उनके परिवार के लोगों को अगवा कर लिया. सूत्रों ने बताया कि आतंकवादियों ने सुरक्षाबलों पर दबाव बनाने की रणनीति के तहत इस वारदात को अंजाम दिया है. हाल में सुरक्षा बलों ने कुछ आतंकियों के घरों में छापामारी कर उनके रिश्तेदारों को गिरफ्तार किया था.

गुरुवार को ही आतंकियों ने पुलवामा जिले में एक पुलिकर्मी को अगवा किया था. उससे सवाल करने और पिटाई करने के बाद उसे छोड़ दिया गया था. उसी दिन आतंकियों ने पुलवामा, अनंतनाग और कुलगाम में पुलिसकर्मियों के घरों पर हमला किया. जिन लोगों को उन्होंने अगवा किया उनमें श्रीनगर में तैनात एक पुलिसकर्मी का भाई और एक अन्य पुलिस वाले का बेटा शामिल है. इससे पहले बुधवार को त्राल में एक पुलिसकर्मी के बेटे को अगवा किया गया था. उसके परिवार ने आतंकियों से अपील की है कि वे उनके बेटे को छोड़ दें. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि अगवा किए गए लोगों को सुरक्षित छुड़ाने की कोशिश की जा रही है.

गुरुवार को आतंकियों के परिवार के सदस्यों की गिरफ्तारी और दो आतंकियों के घरों को जलाए जाने के खिलाफ दक्षिण कश्मीर में कई जगहों पर दिन भर विरोध प्रदर्शन हुए थे. इलाके के लोगों का आरोप है कि बुधवार को शोपियां में हुए हमले में चार पुलिसकर्मियों की मौत के बाद सुरक्षाबलों ने आतंकियों के घरों में आग लगाई थी. इसके बाद आतंकियों की तरफ से कार्रवाई की गई है. खबर के मुताबिक बीते 28 सालों में यह पहला मौका है जब आतंकवाद के चलते कश्मीर में पुलिसकर्मियों के परिवारों को इस तरह निशाना बनाया गया है.